वाराणसी- भोले नगरी में नंदी के मौत का तांडव

0
54

वाराणसी ब्यूरो-भोले के अतिप्रिय मास सावन। चारों ओर शिवालयों में भोले और नंदी की पूजा। लगातार हो रही है | बारिश और शहर में लगने वाले जलजमाव से भूमिगत विद्युतीकरण से उतर रहा करंट नंदी के साथ ही तमाम बेजुबान जानवरों की मौत का कारण बनता जा रहा है। लेकिन इसे लेकर न तो विभाग चिंतित और न ही कार्यदायी संस्था आईपीडीएस। एक साथ कई कुत्तों के मरने और सांडों की मौत की फोटो सोशल मीडिया पर तैरते ही चौतरफा विरोध शुरु हो गया है। इसे मुद्दा बनाकर समाजवादी नेता ने पीएम मोदी के संसदीय कार्यालय में पत्रक देकर काशी के गौरव और सम्मान बचाने की मांग की है। इसके बाद लंका थाने को शिकायती देकर कार्यदायी संस्था के खिलाफ कार्यवाही की मांग भी की है।

नगवां वार्ड के पार्षद प्रतिनिधि सत्यप्रकाश ‘सोनू’ ने ज्ञापन के माध्यम से मांग किया कि काशी में नंदी के मौत का तांडव असहनीय पीड़ा देता है, इससे काशीवासियों की आस्था को ठेस पहुँच रहा है। पीएम मोदी को संबोधित पत्र में सोनू ने लिखा है कि केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना भूमिगत विद्युतीकरण का काम कर रही आईपीडीएस कंपनी ने जगह-जगह मीटर बॉक्स लगाये है जिसके कारण कई स्थानों पर करंट उतरने की जानकारी हुई है। कई स्थानों पर बेजुबान जानवरों की मौत हो चुकी है। बाबजूद इसके इस मामले में विभाग की ओर से कोई अधिकारी चिंतित नहीं है। ऐसे में इस मामले में कमेटी द्वारा जाँच कराकर लापरवाह अधिकारियों को चिन्हित किया जाए और उनके विरुद्ध कार्यवाही हो ताकि काशी का सम्मान और गौरव की रक्षा हो सके।

देश में गाय को सम्मान फिर काशी में मौन
जब देश में गौ रक्षा के लिए अभियान चल रहा हो। गौ रक्षक कथित रुप से हिंसक झड़प पर आमादा है तो फिर काशी में भोले की सवारी नंदी के मौत पर चुप्पी क्यों। सत्यप्रकाश सोनकर अपने समर्थकों के साथ लंका थाने में शिकायती पत्र देकर कार्यदायी संस्था आईपीडीएस की लापरवाही पर कार्यवाही की मांग की है और कहा कि यदि कार्यवाही नहीं होगी तो बेजुबान जानवरों की मौत का सिलसिला बदस्तूर जारी रहेगा

रिपोर्ट- सवेॅश कुमार यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY