दवा प्रतिनिधियों के अस्तित्व पर खतरा

बलिया (ब्यूरो) उत्तर प्रदेश, उत्तराखण्ड मेडिकल एण्ड सेल्स रिप्रजेंटेटिब्स एसोसिएशन बलिया इकाई का वार्षिक सम्मेलन रविवार को कुंवर सिंह इण्टर कालेज में सम्पन्न हुआ। सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए सम्मेलन के पर्यवेक्षक राज्यमंत्री आरएम राय ने कहा कि दवा प्रतिनिधियों के अस्तित्व पर संकट शुरू हो गया। 

केन्द्र सरकार जेनेरिक और ब्रांड के नाम पर एक भ्रामक प्रचार शुरू कर दिया है। जेनेरिक दवाईयों को प्रचलन में लाने से पूरा दवा उद्योग खतरे में आ गया। जेनेरिक दवाईयों को प्रमोट करने के बाजार डीपीसीओ के तहत जीवन रक्षक दवाओं की कीमत तय करनी चाहिए ताकि दवाएं सस्ती हो दवाओं के उपर लग रहे जीएसटी से दवाएं महंगी होगी। दवाओं की जीएसटी की पूर्ण रूप से हटाया जाय। दवा प्रतिनिधियों के उपर कंपनियों के हमले बढ़ रहे है। ई. रिपोर्टिंग के नाम पर दवा प्रतिनिधियों के हमले बढ़ रहे है। सन फार्मा के मैनेजमेंट ने 54 साथियों का स्थानांतरण कर दिया है, जिसे संगठन के बल पर लड़कर जीता गया। सम्मेलन को डीटीयूसीसी अध्यक्ष बलवंत सिंह, महामंत्री अजय सिंह, संरक्षक सुभाष सिंह, खेत मजदूर सभा के रामकृष्ण यादव, बैंक इम्पलाइज यूनियन के केएन उपाध्याय, बीसीडीए अध्यक्ष आनंद सिंह आदि ने सम्बोधित किया।  ⁠⁠⁠⁠

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here