जिलाधिकारी ने की फसल ऋण मोचन योजना की बैठक

0
186


अमेठी (ब्यूरो) जिलाधिकारी योगेष कुमार ने आज कलेक्ट्रेट सभागार में फसल ऋण मोचन योजना की बैठक की अध्यक्षता करते हुए समस्त अधिकारियों को निर्देषित करते हुए कहा कि यह योजना सीधे किसानों के विकास से जुडी है, ऐसे में सम्पूर्ण कार्य पूरे मनोयोग एवं पारदर्षिता से करना सुनिष्चित करें। उन्होंने कहा कि यदि कोई किसान किसी क्षेत्र के एक गाटा पर एक से अधिक ऋण ले चुका होगा तो उसे इस योजना का लाभ नहीं मिल पायेगा। उन्होंने कहा कि 31 मार्च 2016 तक के ऐसे किसान तो 1 से 2 हेक्टेयर पर एक लाख का ऋण ले चुके होगें उन्ही का ऋण इस योजना में माफ किया जायेंगा।

जिलाधिकारी ने बैठक के दौरान संबंधित अधिकारियों को यह निर्देषित करते हुए कहा कि यह योजना सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है, इसलिए इस योजना में किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। उन्होंने योजना में लाभार्थी किसानों की समची षीघ्र ही बनाने का निर्देष संबंधित अधिकारियों को दिया। जिलाधिकारी ने कहा कि प्रथम चरण में ऐसे लघु और सीमान्त किसानों का ऋण माफ होगा जिनके खाते आधार लिंक हो चुके होगें, उन्होंने 5 जुलाई तक समस्त किसानों के आधार नम्बर, मो0 नम्बर, गाटा सं0 सहित परिवार के मुखिया का नाम ऋण स्वीकृति हेतु 15 जुलाई तक समस्त कार्य सम्पूर्ण करने का निर्देष संबंधित को दिया।

जिलाधिकारी ने कहा कि किसानों किसी भी प्रकार की समस्या न हो इसके लिए एक कन्ट्रोल रूम की स्थापना की जायेगी, जिसमें किसान अपनी समस्या का समाधान कर सकता है। उन्होंने जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक को निर्देषित करते हुए क्हा कि वे ऐसे लघु एवं सीमान्त किसान जिन्होंने फसली ऋण ले रखा है, उनके खातों को आधार से लिंक करने के लिए कैंप लगाया जाए। उन्होंने समस्त संबंधित बैकों को निर्देषित करते हुए कहा कि वे यह सुनिष्चित कर ले कि कोई भी किसान इस योजना का लाभ से वंचिंत न रह जाए इसके लिए किसानों की डाटा फिडिंग का कार्य पारदर्षिता से करें।

जिलाधिकारी ने बताया कि फसल ऋण मोचन योजना के तहत लाभार्थी लघु एवं सीमान्त किसानों की पहंचान स्थापित करने हेतु जिला स्तरीय समिति का गठन किया गया है, जिसमें समिति के सदस्य किसानों के ऋण माफी में सहयोग प्रदान करेंगें उन्होंने बताया कि जिला स्तरीय समिति के अध्यक्ष वह स्वयं होगें एवं समिति के सचिव के रूप में मुख्य विकास अधिकारी, सह सचिव जिला कृषि अधिकारी सहित उप कृषि निदेषक , अपर जिलाधिकारी, जिला  अग्रणी जिला प्रबंधक, सहायक निबंधक/आयुक्त सहकारी समितियां, महाप्रबंधक सहकारी बैंक, समस्त बैंकों के जिला समन्वयक, जिला उद्यान अधिकारी, जिला सूचना अधिकारी, जिला सूचना विज्ञान अधिकारी एवं जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी सदस्य होगें। उन्होंने बताया कि उक्त समिति के लोगों की जिला स्तर पर निर्णया लेने की भूमिका रहेगी।
   

बैठक के दौरान उक्त के अतिरिक्त मुख्य विकास अधिकारी सुश्री अपूर्वा दूबे, अपर जिलाधिकारी ईष्वरचन्द्र, उपजिलाधिकारी गौरीगंज, मुसाफिरखाना व अमेठी, जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक, उप कृषि निदेषक, जिला कृषि अधिकारी, समस्त बैंकों के प्रतिनिधि सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – हरी प्रसाद यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here