सावन को लेकर अधिकारियों की बैठक, शहर को 5 जोन और 46 सेक्टर में बांटा गया

0
45

वाराणसी (ब्यूरो) भोले की नगरी काशी में होने वाले सावन माह में श्रद्धालुओं की भीड़ को लेकर जिला के अफसरों की मैराथन बैठक शुरु हो गई है। पहले जहा राज्यमंत्री ड़ॉ. नीलकंठ तिवारी सड़कों पर उतरकर सरकारी व्यवस्थाओं की बारीकियां परखी तो शुक्रवार को वाराणसी कमिश्नर नीतिन रमेश गोकर्ण श्री काशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचकर औचक निरीक्षण किया। उधर जिलाधिकारी ने रायफल क्लब में अधिकारियों संग बैठक कर सभी तैयारियों को हर हाल में रविवार तक पूरा करने का निर्देश दिया।

मजबूत हो बैरिकेडिंग
कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने मंदिर का दौरा कर घाट से मंदिर तक लगे बैरिकेडिंग को देखते हुए कहा कि बैरिकेडिंग की मजबूती सुनिश्चित कराई जाए। उन्होंने लोनिवि के अधीक्षण अभियंता को निर्देशित करते हुए कहा कि हर हाल में सभी काम रविवार तक पूरे करा लिए जाएं। उन्होंने मंदिर के आस-पास सफाई की मुकम्मल व्यवस्था कराये जाने हेतु नगर निगम के अधिकारी को निर्देशित किया है। उन्होने मंदिर परिसर एवं आसपास के क्षेत्रों के जर्जर एवं लटकते विद्युत तारों को दुरूस्त कराये जाने के साथ ही विद्युत पोलो आदि की विद्युत सुरक्षा सुनिश्चित कराये जाने हेतु विभागीय अधिकारी को निर्देशित किया।उन्होने मंदिर के सभी विग्रहों को भी देखा। उन्होने विशेष रुप से जोर देते हुए कहा कि श्रद्धालुओं एवं कावरियों को किसी भी दशा में परेशानी का सामना न करना पड़े। उन्होने प्रमुख मार्गो को रविवार तक दुरूस्त कराये जाने के साथ ही सड़को पर पड़े मलवे को तत्काल मौके से हटवाये जाने का निर्देश दिया।

प्रमुख शिवालयों पर तैनात रहेंगे मजिस्ट्रेट
कमिश्नर से मिले निर्देश पर बैठक कर अधिकारियों को जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र ने स्पष्ट कहा कि सड़क मरम्मत का कार्य हर हाल में रविवार तक पूरा करते हुए सफाई का मुकम्मल इंतजाम किये जाए। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिया कि रविवार शाम से मंगलवार सुबह तक निर्वाध विद्युत सप्लाई हो। उन्होने हाइवे की मांस के दुकानों को सोमवार को बंद रखने का भी निर्देश दिया है। डीएम ने बताया कि पूरे शहर को 5 जोन एवं 46 सेक्टर में बांट कर प्रत्येक जोन में 2-2 एवं सेक्टर में एक-एक मजिस्ट्रेटों की तैनाती कर दी गयी है। इसके अलावा सभी प्रमुख शिवालयों पर अलग से 11 मजिस्ट्रेट तैनात किये गये हैं । उन्होने रेलवे के अधिकारियों से श्रावण मास के दौरान ट्रेनों से आने वाले श्रद्धालुओं के बाबत स्टेशन पर आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराये जाने के साथ ही ट्रेनो के पूर्व निर्धारित प्लेटफार्म को कतई परिवर्तीत न किये जाने का निर्देश दिया। उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि प्रतिबंधित मार्गों पर वाहन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगें।

विभागों को यह दिया निर्देश
उन्होने खाद्य सुरक्षा अधिकारी को निर्देशित किया कि मार्गों के ढ़ाबों सहित लंगर एवं भण्डारे में बनने वाले खाद्य सामग्री की निरन्तर एवं नियमित जॉच की जाय तथा ढ़ाबों पर रेट लिस्ट अवश्य लगवा दिये जाएं, ताकि किसी भी दशा में श्रद्धालुओं का दोहन कोई न कर सके। उन्होने मजिस्ट्रेटों एवं पुलिस अधिकारियों को अपने-अपने तैनाती स्थलों पर निर्धारित समय से पूर्व पहुँचने तथा प्रत्येक व्यक्ति पर पैनी नजर रखे जाने का निर्देश दिया। उन्होने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को रेलवे एवं बस स्टेशन सहित प्रमुख स्थलों पर डाक्टरों की जीवनरक्षक दवाओं सहित एम्बुलेंस की व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने का निर्देश दिया। साथ ही जलकल के अधिकारी को पेयजल हेतु टैंकरों की उपलब्धता प्रमुख चिन्हित स्थलों पर लगाये जाने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने विभागीय अधिकारियों को विशेष रूप से जोर देते हुए अपने-अपने सौंपे दायित्वों को समय से व्यक्तिगत रूचि लेकर प्राथमिकता पर पूरा कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होने नगर निगम के अधिकारी को सडकों एवं मंदिरों के आसपास के क्षेत्र सहित गलियों में पर्याप्त सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने के साथ ही इसके लिये सफाईकर्मियों की ड्यूटी शिफ्टवार लगाये जाने का निर्देश दिया।

सुरक्षा के मुकम्मल इंतजाम
जिलाधिकारी ने बताया कि श्रवण मास के दौरान सुरक्षा के मुकम्मल एवं चाक-चौबन्द इन्तजाम किये गये हैं । काशी विश्वनाथ मंदिर सहित अन्य प्रमुख शिवालयों पर चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा कर्मियों को तैनाती किया गया है। सादे वर्दी में भी सुरक्षा कर्मी एवं एलआईयू के अधिकारी भी लोगों पर नजर रखेगे। बैठक में एसएसपी आर.के.भारद्वाज, अपर जिलाधिकारी नगर सहित नगर निगम, लोक निर्माण विभाग, विद्युत, जलकल, विद्युत सुरक्षा आदि विभागों के अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – सर्वेश कुमार यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY