डाला अल्ट्राटेक सीमेंट फैक्ट्री के कर्मचारियों की बैठक, समान कार्य के बदले समान वेतन की मांग

0
39

सोनभद्र(ब्यूरो)- डाला सेक्टर सी के हनुमान मंदिर परिसर में शनिवार कि शाम डाला सीमेंट फैक्ट्री श्रमिक संघ डाला सोनभद्र के बैनर तले सभा का आयोजन किया गया।सभा की अध्यक्षता कुलदीप सिंह व संचालन कमाल हैदर खाँ ने किया।
बैठक में सैकडो श्रमिकों ने भाग लिया। मजदूर नेता एवं यूनियन के महामंत्री उत्तम मिश्रा को प्रदेश इण्टक का ज्वाईन्ट सेक्रेटरी बनाये जाने पर मजदूरों ने माला पहनाकर व मिष्ठान वितरण कर जोरदार स्वागत किया।

श्री मिश्रा ने कहा कि पद मिलना बहादुरी नहीं है पद की जिम्मेदारी का निर्वहन सही तरीके से करना बहादुरी है। उन्होंने मजदूरों के साथ अल्ट्राटेक सिमेंट वकर्स द्वारा किए जा रहे अन्याय के संबध में बताया कि मैनेजमेंट के लोग जो रवैया अपने कर्मचारियों के प्रति अपना रहे हैं यह रवैया ठीक नहीं है क्योंकि जब मजदूर ही संतुष्ट नहीं रहेगा तो फैक्ट्री कैसे उन्नत करेगी सीमेंट फैक्ट्री में सभी कर्मचारियों को कैटेगरी के हिसाब से सीमेंट वेज का लाभ मिलना ही चाहिए चाहे वह संविदा श्रमिक हो या स्थाई कर्मचारी हो। यूनियन के अबतक की कार्रवाई से मैनेजमेंट भी परेशान हो चुका है कंपनी परेशान जरुर है लेकिन मजदूरों का हक मिले इसके लिए कुछ नहीं सोच रही हैं। जब हमने 2006 या 2009 में ज्वाइनिंग जेपी. ग्रुप में किया था तो उस समय यहां कन्ट्रक्सन का काम चल रहा था लेकिन अब न कोई कन्ट्रक्सन चल रहा है और न अब जेपी. ग्रुप हैं तो हमसब को जबरदस्ती प्रोजेक्ट में डालने की कोशिश क्यों हो रही है जबकि सभी को एक रोल सीमेंट डिविजन में रखना चाहिए। हम इतने कम बेतन मे कैसे गुजारा करें।

अब तो एक ही रास्ता दिखाई दे रहा है सीमेंट डिविजन सीमेंट वेज जब समान कार्य है तो समान वेतन भी किया जाय। महामंत्री श्री मिश्रा ने कर्मचारियों को बताया कि यूनियन ने अबतक प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री व सम्बन्धित विभागो को लिखित व मुख्यमंत्री योगी जी को लिखित व मौखिक रूप से अवगत करा चुका है लेकिन कहीं से भी हम कर्म योगियों के लिये राहत मिलती नजर नहीं आ रही है तो क्या यह समझ लिया जाय कि हम बन्धुआ मजदूरों की श्रेणी में हैं मुझे तो लगता है कि अगस्त क्रांति मैनेजमेंट को दिखानी पड़ेगी क्योंकि आज हम आजाद होते हुए भी आर्थिक गुलामी में जकड़े हुए हैं। अपने हक की लडाई हमें गान्धीवादी तरीके से ही अपना आन्दोलन अब तेज करना होगा क्योंकि इतने कम वेतन में जीवकोपार्जन करना मुश्किल है।

इण्टक के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. जी. संजीवा रेड्डी से यूनियन ने मिलकर कहा है कि आप बिड़ला ग्रुप के मालिक श्री कुमार मंगलम से तत्काल वार्ता करें ताकि कर्मचारियों को उनका हक मिल सके। उपाध्यक्ष कुलदीप सिंह ने कहा कि कम्पनी सुधरने का नाम नहीं ले रही है इसलिए हमें भी कमर कसना ही होगा। जब हम लोगों ने इ एण्ड पी यानि प्रोजेक्ट में ट्रांसफर किए जाने का प्रस्ताव नहीं माना तो सुनने में आ रहा है कि वह प्रस्ताव पत्र मैनेजमेंट कर्मचारियों के घर पर डाक द्वारा भेजने के फिराक में है हमलोग इन्हें कामयाब नहीं होने देगें क्योंकि यह मसला हमारे भविष्य से जूड़ा है।

सभी मजदूरों ने कहा कि हमें सीमेंट फैक्ट्री वेज में किया जाय क्योंकि किसी को १० हजार व किसी को ३० हजार वेतनमान यह कंहा का न्याय है समान कार्य का समान वेतन दिया जाय। इन बातों को सुनकर श्री मिश्रा ने कहा कि अगर प्रबन्धन हमारी मांग नहीं मानी तो हमलोग बहुत जल्द रोड पर घूम घूम कर यूनिफार्म में होकर भीख मांगने पर मजबूर हो जायेंगे। इस दौरान बृजेश मिश्रा, दिलीप सिंह, जय प्रकाश, राजेश कुमार, अविनाश पति, सतीश राठौर, दादू लाल, अनिस सत्यदेव सिह, मुकेश यादव, विनय सिंह, विनय पाण्डेय समेत सैकड़ों कर्मी रहे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY