केरल में खूनी हिंसा को लेकर जनाधिकार समिति ने राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

0
128


बलिया(ब्यूरो)
– कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी माकपा के गुंडे कार्यकर्ताओं द्वारा एक बार फिर से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक और 52 वर्षीय स्वयंसेवक संतोष कुमार की 18 जनवरी 2017 को निर्मम हत्या कर दी गयी है। नरसंहारी माकपाईयों के एक समूह ने देर रात उनकी झोंपड़ी में घुसकर धारदार हथियारों से उन पर हमला किया था। जिसके बाद उनकी मृत्यु हो गयी। श्री कुमार दो बच्चों के पिता थे। उसी दिन इस नरसंहारी माकपाई समूह ने एक अन्य स्वयंसेवक पर भी हमला कर उसे अधमरा कर दिया था। सभी प्रबुद्ध नागरिक केरल की माकपा सरकार के सह पर नरसंहारी माकपा कार्यकर्ताओं द्वारा अपने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ की जा रही लोकतंत्र व मानव विरोधी हिंसा की कड़ी निंदा करते है। हिंसा की इन घटनाओं को न केवल तत्काल रोकने की जरूरत है बल्कि इन घटनाओं को अंजाम देने वाले माकपाई गुंडे कार्यकर्ताओं के खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि उन्हें अपने अपराधों की उचित सजा मिल सके।

जनाधिकार समिति बलिया के तत्वावधान में राष्ट्रवादी विचार धारा के पोषक सैकड़ों कार्यकर्ता मंगलवार को कलेक्ट्रेट बलिया के परिसर में उपस्थित होकर नक्सली गतविधियों के विरोध में आक्रोश व्यक्त करते हुए एक ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को इस आशय के साथ प्रेषित किया कि राष्ट्र विरोधी केरल सरकार पर कार्यवाही की जाय। ज्ञापन देते समय डा.विनोद सिंह, डा.बद्रीनारायण, विनय कुमार सिंह, अजय राय, डा.राघवेन्द्र नारायण, प्रशांत पाण्डेय, संजय शुक्ल, सोनू गुप्त, नकुल चौबे, मंगलदेव चौबे, अरूणमणि, बब्बन सिंह, संजय यादव, निर्भय जी, देवानंद सिंह, राजेश, संजय मिश्र आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट- संतोष शर्मा
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here