एक्शन में योगी के मंत्री, अभियंता और ठेकेदार पर FIR का आदेश

0
91


वाराणसी ब्यूरो : पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में मुलभुत सुविधाओं को लेकर निरीक्षण पर निकले सीएम योगी के न्याय, सूचना, खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री डा. नीलकंठ तिवारी ने रविवार को पूरे एक्शन में दिखे। कोनिया इलाके के निरीक्षण के दौरान उन्होंने सड़क, सीवर एवं बिजली का हाल जाना। वर्ष 2012 से इस क्षेत्र में चार करोड़ की लागत से आरसीसी सड़क बनाए जाने की स्वीकृति के बाबजूद 5 वर्षों में भी अधूरे सड़क के निर्माण को देकर भड़क उठे। आधे निर्माण को भी मानक के अनुरूप न पाकर मंत्री ने तत्काल विभाग के अफसरों को तलब कर ध्वस्त आरसीसी सड़क को उखाड़ कर ठेकेदार को पूरी सड़क को स्वीकृत डीपीआर के अनुसार शीघ्र बनावाए जाने का निर्देश दिया। काम में लापरवाही बरतने पर उन्होंने ठेकेदार की जमानत राशि जब्त करने के साथ ही इस सड़क के निर्माण कार्य की जांच कराकर संबंधित अभियंता की जिम्मेदारी निर्धारित कर अभियंता एवं ठेकेदार के विरुद्ध FIR दर्ज कराये जाने का निर्देश दिया है।

ध्वस्त सीवर और बिजली को लेकर भी जताई नाराजगी
पिछले दिनों कोनिया क्षेत्र के विद्युत लाइन काट दिए जाने की जानकारी पर विद्युत विभाग के क्षेत्रीय अभियंता को कड़ी फटकार लगाते हुए एक सप्ताह के अंदर प्रत्येक दशा में विद्युत कनेक्शन चालू किए जाने का निर्देश दिया।साथ ही क्षेत्र की सीवर व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त होने तथा सीवर का पानी वरुणा नदी में बाहर जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए क्षेत्र के सीवर लाइन का कनेक्शन एसटीपी से किए जाने का निर्देश दिया। राज्यमन्त्री नेे कोनिया क्षेत्र के हैण्डपम्पो से पीला एवं दूषित पानी आने की क्षेत्रीय नागरिकों द्वारा दिए जाने की जानकारी पर नगर निगम के अभियंता को निर्देशित किया कि क्षेत्र में पेयजल व्यवस्था सुनिश्चित कराए जाने हेतु बडा नलकूप लगाया जाए। उन्होंने मौके पर मौजूद नगर निगम के अधिकारी को निर्देशित किया कि क्षेत्र में सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराया जाए और कूड़े कि उठान नियमित रूप से कराया जाए। उन्होंने क्षेत्र में खराब स्ट्रीट लाइटों को भी दुरुस्त कराए जाने का निर्देश दिया। उन्होंने मौके पर मौजूद कार्यदाई संस्थाओं के अभियंता को कड़े निर्देश देते हुए कहा कि विकास एवं निर्माण कार्यों में अब किसी भी स्तर पर लापरवाही एवं अनियमितता कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि कार्य के दौरान वह मौके पर कार्यों का स्थलीय निरीक्षण अवश्य करें और कार्यों को ठेकेदारों के भरोसे कतई न छोड़ें। उन्होंने सख्त हिदायत देते हुए कहा कि निर्माण कार्यों के गुणवत्ता की जांच कराई जाएगी और यदि किसी भी स्तर पर इसमें अनियमितता पाई गई, तो जिम्मेदार ठेकेदार एवं विभागीय अभियंता को बख्शा नहीं जाएगा।

निरीक्षण के दौरान मंत्री ने क्षेत्रीय लोगों से वार्ता कर उनकी समस्याओं को भी सुना तथा प्राथमिकता पर शीघ्र निस्तारण सुनिश्चित किए जाने का भरोसा दिया। निरीक्षण के दौरान मंत्री के प्रतिनिधि आलोक श्रीवास्तव के अलावा नगर निगम, सीएनडीएस, विद्युत तथा जलकल आदि विभागों के अधिकारी सहित भारी संख्या में क्षेत्रीय लोग उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – सर्वेश कुमार यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here