एमएलसी ने विधान परिषद में उठाये जनहित के मामले

0
79

रायबरेली (ब्यूरो)- जनपद में एम्स निर्माण को राज्यपाल के अभिभाशण में शामिल न किये जाने पर एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह ने क्षोभ जताते हुए जनहित के मसलों पर राजनैतिक लाभ-हानि की सोच से ऊपर उठकर कार्य संस्कृति विकसित करने पर जोर दिया।

विधान परिषद में राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा में उन्होने कहा कि सरकार गोरखपुर में एक से अधिक एम्स बनवाये तो भी हमें कोई आपत्ति नही है, लेकिन रायबरेली में एम्स के निर्माण को लेकर उदासीनता ठीक नही है। दिनेश प्रताप ने कहा कि एम्स निर्माण में अब तक दो सौ करोड़ रू खर्च हो चुके हैं, सौ करोड़ रूपये और खर्च करके एम्स का संचालन शुरू किया जा सकता है। ऐसा न किये जाने पर अब तक खर्च किया गया पैसा भी बर्बाद हो जायेगा।

एमएलसी ने सीएचसी हरचन्दपुर में एक्सरे मशीन न होने का मामला भी उठाया। श्री सिंह ने कहा कि स्वास्थ्य केन्द्र में एक्सरे आपरेटर तैनात है, किन्तु एक्सरे मशीन नही है। स्वास्थ्य मन्त्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने सदन में कहा कि बहुत जल्द हरचन्दपुर में एक्सरे मशीन स्थापित करवाई जायेगी और वे स्वयं एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह के साथ इसका उद्घाटन करेंगे।

एमएलसी ने कहा कि सरकार अधिकारियेां एवं कर्मचारियेां को प्रातः 09 बजे कार्यालय में उपस्थित होने के लिए कड़ाई कर रही है, लेकिन कार्य दिवस के बाद इन्ही कर्मचारियों से परिवार और व्यक्तिगत जीवन को रात 11.00 बजे तक काम लिया जाता है जो कि मानवाधिकार का उलंघन है। यदि 9.00 बजे बुलाया जाता है तो शाम को 6.00 बजे तक छोड़ना भी चाहिये। अधिक सेवा लेने पर अतिरिक्त परिश्रमिक दिये जाने पर भी सरकार विचार करे।

रिपोर्ट- दीपक शर्मा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY