इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में बोले प्रणब, मोदी ने तेजी से बहुत कुछ सीखा है, बाजपेई जी हमेशा अपने साथियों की फिक्र किया करते थे

0
369


नई दिल्ली : आज दिल्ली में आयोजित इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में देश के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न श्री अटल बिहारी बाजपेई की जमकर तारीफ की है। इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में बोलते हुए राष्ट्रपति महामहिम श्री प्रणब मुखर्जी ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के बारे में कहा है कि मोदी स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन से आए हैं लेकिन उन्होंने केंद्र में चीजों को बहुत ही तेजी से सीखा है उन्होंने अपने आप को नए रोल में बहुत ही बेहतरीन तरीके से ढाल लिया है। पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न पंडित श्री अटल बिहारी बाजपेई के बारे में बात करते हुए महामहिम ने कहा है कि वह हमेशा अपने साथियों की फिक्र किया करते थे।

स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन से आए मोदी ने केंद्र में महारत हासिल कर ली-
इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में आज बोलते हुए महामहिम राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी की जमकर तारीफ की। राष्ट्रपति श्री मुखर्जी ने कहा है कि मोदी के काम करने का अंदाज़ बेहद जुदा है। हमें इसके लिए उन्हीं को पूरी की पूरी क्रेडिट देनी चाहिए। उन्होंने किस तरह से स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन के बाद केंद्र की चीजों को और कितनी जल्दी सीखा है यह वही बता सकते हैं। इतिहास के पन्नों को पलटते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि चरण सिंह से लेकर चंद्रशेखर तक देश के कई प्रधानमंत्रियों को काफी कम वक्त प्रधानमंत्री के तौर पर काम करने का मिला है लेकिन इन लोगों के पास पूर्व में पार्लियामेंट का एक अच्छा खासा एक्सपीरियंस था लेकिन दूसरी तरफ अगर हम बात प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की करते हैं तो एक शख्स सीधे स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन से आता है और केंद्र सरकार में सीधे प्रमुख बन जाता है। उसके बाद विदेश नीति हो या फिर एक्सटर्नल इकानामी दोनों में ही उसको महारत हासिल होती है और उसके द्वारा किए गए कार्यों तथा सुधारों से पूरे देश का पूरी दुनिया में एक अलग ही मुकाम बनता है। इसके लिए हम सभी को खुले दिल से प्रधानमंत्री मोदी क्रेडिट देना चाहिए।

अपने साथियों की हमेशा फिक्र किया करते थे अटल जी –
कॉन्क्लेव में बोलते हुए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने पूर्व प्रधानमंत्री पंडित श्री अटल बिहारी बाजपेई की जमकर तारीफ की उन्होंने कहा कि अटल जी बेहद असरदार प्रधानमंत्री थे। वह बाकी लोगों की अपेक्षा पूरी तरह से एक अलग ही अप्रोच रखते थे। कॉन्क्लेव में बैठे लोगों को संबोधित करते हुए महामहिम ने कहा कि मैं आप सभी को सिर्फ एक उदाहरण देना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि मैंने एक दिन अचानक संसद में देखा कि प्रधानमंत्री मेरी सीट की तरफ धीरे धीरे आ रहे थे। मैंने थोड़ी सी शर्मिंदगी महसूस कि, मैंने अटल जी से कहा आपने मेरे पास आने की तकलीफ क्योंकि, आप किसी को भेज देते वह मुझे बता देते और मैं खुद आपसे मिलने के लिए आ जाता लेकिन इस पर अटल जी ने बेहद गंभीरता के साथ जवाब दिया और उन्होंने कहा कि, कोई बात नहीं हम दोस्त हैं।

इसके बाद अटल जी मेरे पास आए और उन्होंने मुझसे कहा कि जॉर्ज फर्नांडिस काफी मेहनती और बेहद काबिल मंत्री हैं मैं आपसे गुजारिश करता हूं कि कृपया उनके लिए ज्यादा तल्ख ना हो आपको बताते चलते हैं कि जिस समय की बात महामहिम कर रहे थे उस समय एनडीए गठबंधन की सरकार थी और जॉर्ज फर्नांडिस डिफेंस मिनिस्टर हुआ करते थे।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here