PM मोदी की पाकिस्तान यात्रा के दौरान अधिकारियों की क्या थी सबसे बड़ी चिंता, और कुछ रोचक समस्या का हल –

0
388

दिल्ली- प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अचानक पाकिस्तान यात्रा को कई दिन बीत चुके हैं लेकिन प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान हुई रोचक घटनाओं और बातों का खुलासा अभी भी जारी है I मीडिया में आई रिपोर्टों की माने तो प्रधानमंत्री जब काबुल में थे तभी उन्होंने अचानक पाकिसत्न जाने का प्लान बना लिया I लेकिन प्रधानमंत्री श्री मोदी पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद जाना चाहते थे I

प्रधानमंत्री ने जब अपनी इस्लामाबाद की यात्रा के सम्बन्ध में बात की तो भारत की सुरक्षा एजेंसियों को दिक्कत नहीं हुई और उन्होंने प्रधानमंत्री की यात्रा के लिए हामी भर दी क्योंकि वह इस्लामाबाद की सुरक्षा को लेकर आश्वस्त थी I

लेकिन जब प्रधानमंत्री श्री मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री श्री नवाज शरीफ की पुनः बातचीत हुई तो नवाज शरीफ ने प्रधानमंत्री श्री मोदी से इस्लामाबाद की बजाय लाहौर आने का आग्रह किया I भारत की सुरक्षा एजेंसियों को जैसे ही इसका पता चला उन्होंने पाकिस्तान के सामने सबसे पहले सुरक्षा का मुद्दा उठा दिया I

भारतीय सुरक्षा एजेंसियों की तरफ से सुरक्षा को लेकर उठाये गए सवाल के बाद पाकिस्तानी सेना ने भरोषा दिलाया लेकिन फिर भी भारत की सुरक्षा एजेंसिया किसी भी प्रकार का रिस्क लेने के लिए तैयार नहीं थी तब पाकिस्तानी सेना ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी उसी हेलीकाप्टर में यात्रा करेंगे जिसमें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ यात्रा करेंगे I तब जाकर कही भारतीय सुरक्षा एजेंसियों की जान में जान आई और तब ही उन्होंने प्रधानमंत्री की यात्रा के लिए हामी भरी I

आखिर मोदी इस्लामाबाद की बजाय क्यों गए लाहौर –

मीडिया में आई खबरों की माने तो जब पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने जब प्रधानमंत्री श्री मोदी को पाकिस्तान आने का निमंत्रण दिया तो मोदी ने उनसे कहा कि, “आप तो इस्लामाबाद में है नहीं लाहौर में है तो इस पर नवाज़ शरीफ ने कहा कि आज उनकी नवासी की शादी है लाहौर में और वह एक ही रात में लाहौर से पाकिस्तान नहीं पहुँच पायेंगे I

शरीफ ने प्रधानमंत्री मोदी से निवेदन किया और कहा कि आप लाहौर ही आ जाइये I बातचीत के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत ढोबाल और एसपीजी से इस संबंध पर बातचीत की I लेकिन भारत की सुरक्षा एजेंसियों को लाहौर में बिना किसी पूर्व सूचना के उतरना गंवारा नहीं लग रहा था क्योंकि वर्ष 2009 में लाहौर में श्रीलंका की क्रिकेट टीम के ऊपर हमला बोला था आतंकियों ने I लेकिन जब पाकिस्तानी सेना और सुरक्षा एजेंसियों सुरक्षा का पूरी तरह से भरोषा दिलाया तब प्रधानमंत्री श्री मोदी की इस यात्रा को अंतिम रूप दिया गया I

क्या थी सुरक्षा एजेंसियों की प्रमुख समस्यायें –

भारत के अधिकारियों और सुरक्षा एजेंसियों के मन में एक प्रश्न था कि क्या पाकिस्तान के लाहौर हवाई अड्डे पर जिस वायु सेना के विमान से प्रधानमंत्री श्री मोदी ने काबुल से उड़ान भरी थी उसको लाहौर के हवाई अड्डे पर उतरने की अनुमति डी जायेगी ? अधिकारियों के दिमाग में यह सवाल इसलिए था क्योंकि 1965 के युद्ध में भारतीय वायु सेना ने लाहौर में जमकर बम गिराए थे I

अधिकारियों की चिंता का एक और प्रमुख कारण यह भी था कि यदि लाहौर में उतर भी गए तो वहाँ से प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के घर तक प्रधानमंत्री श्री मोदी कैसे जायेंगे ? क्योंकि लाहौर हवाई अड्डे से प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ का घर तक़रीबन 45 मिनट की दूरी पर था I ऐसे में क्या प्रधानमंत्री मोदी हवाई अड्डे से घर तक का सफ़र सड़क मार्ग से करेंगे ?

इस सवाल के जवाब में पाकिस्तानी सेना ने भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को और अधिकारियों को भरोषा दिलाया कि प्रधानमंत्री मोदी को लाहौर हवाई अड्डे पर पूरी सुरक्षा दी जायेगी और इतना ही नहीं प्रधानमंत्री श्री मोदी उसी हेलीकाप्टर में यात्रा करेंगे जिसमें पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ होंगे I तब कही जाकर भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने इस यात्रा के लिए हामी भरी और तब ही इस यात्रा को अंतिम रूप दिया गया I

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here