मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने लगाई डॉक्टरों की क्लास

0
32

रायबरेली (ब्यूरो)- स्तनपान सप्ताह के क्रम में मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में सीएमओ की अध्यक्षता में अन्र्तविभागीय समन्वय बैठक आयोजित की गयी। जिसमें सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के सभी अधीक्षक, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी तथा अन्य सभी विभागो के जनपद स्तरीय अधिकारियों तथा आई.एम.ए. के अध्यक्ष डा0 केएस सिंह ने प्रतिभाग किया।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया गया कि माँ का दूध शिशु के शारीरिक व मानसिक विकास हेतु तथा डायरिया, निमोनिया एवं कुपोषण से बचाने और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए अत्यन्त आवश्यक है। स्तनपान उत्तम सहज प्राकृतिक और जीवन बचाने वाला है। जन्म के 1 घण्टे के अन्दर स्तनपान की शुरूआत करके 22 प्रतिशत नवजात शिशुओं को बचाया जा सकता है।

जन्म से 24 घण्टे के बाद स्तनपान शुरू करने से मौत का खतरा 2.4 गुना बढ़ जाता है। जन्म से 6 माह तक सिर्फ स्तनपान एवं 6 माह पूर्ण होने पर स्तनपान के साथ ऊपरी आहार के साथ 02 वर्ष तक स्तनपान कराना चाहिए। जनपद में कार्यरत आशाये एवं आंगनबाड़ी तथा डिलवरी प्वाइन्ट पर कार्यरत स्टाफ नर्स के माध्यम से प्रत्येक वर्ष भी विश्व स्तनपान सप्ताह को प्रभावी तरीके से सफल बनाने के लिए सभी को मिलजुलकर प्रयास करने के निर्देश दिये।

रिपोर्ट- राजेश यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY