स्वतंत्रता आंदोलन की तरह बहुराष्ट्रीय कंपनियों को देश से बाहर खदेड़ना ही हमारा लक्ष्य : डा. अनिल यादव

0
70


चन्दौली/मुगलसराय (ब्यूरो) स्वदेशी जागरण मंच के कार्यकर्ता बुधवार की प्रातः आठ बजे सुभाष पार्क में एकत्रित हुए और अमर क्रान्तिकारी सुभाषचन्द्र बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर अगस्त क्रान्ति दिवस पर क्रान्तिकारियों को याद किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि डॉ अनिल यादव ने कहा कि भारतीय स्वतंत्रता इतिहास में सन् 1857 और सन् 1942 को प्रमुखता से याद किया जाता है। 9 अगस्त 1942 को भारत छोड़ो आन्दोलन की शुरुआत हुई और महात्मा गांधी ने करो या मरो का नारा भी दिया था। यह आन्दोलन अंग्रेजों की ताबूत का आखिरी कील था। उन्होंने आगे कहा कि ऐसा जनान्दोलन विश्व के इतिहास में नहीं मिलता जिसके सभी प्रमुख नेता जेल में थे और आन्दोलन चल रहा था। इस आन्दोलन में हिंसा और अहिंसा की विभाजन रेखा मिट गयी थी। पूरा देश इस आन्दोलन में लगा जिसकी बदौलत 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली और अंग्रेज देश छोड़ भाग खड़े हुए ।

डॉ यादव ने आज के सन्दर्भ में भारत छोड़ो आन्दोलन की प्रासंगिकता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आज भारत से सभी बहुराष्ट्रीय कम्पनियों को भारत छोड़ने पर विवश कर देना है। चीन के बने वस्तुओं का उपयोग करना महापाप है। अभी हम आत्मनियंत्रण कर बहिष्कार की बात कर रहे हैं। अगर ये नहीं माने तो कल हमें क्रान्तिकारियों के रास्ते को भी अपनाना पड़ सकता है । अपने अध्यक्षीय सम्बोधन में भाजपा नेता रमेश जायसवाल ने कहा कि अगस्त क्रान्ति के लिए हमें देश की रक्षा और आन, बान, शान की बढ़ोत्तरी के लिए हरसम्भव प्रयास का संकल्प लेना चाहिए। इस अवसर पर शिवजी, पारसनाथ चौरसिया, अशोक कुमार, बीके दूबे, विजय कुमार अमित विश्वकर्मा, प्रदीप जायसवाल, राजनाथ पाल के अलावा श्री साई पब्लिक स्कूल से शिक्षिका रेशमा खानम, प्रतिभा यादव छात्र-छात्राएं रोशनी, श्रेया, साहिल, रवि कुमार, उदित, फैज, मनीष, नन्दिनी, आदित्य, रश्मि, जायद, संजना, हर्षित, अमान, गौरव, जूही, सक्षम आदि शामिल थे।

रिपोर्ट – उमेश दूबे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here