मुंबई की 16 साल की केजल ने मरने के बाद भी बचाई तीन लोगो की जान |

0
600

kejal

26 मई 2016 को अपनी माँ के साथ स्कूटर पर जाते वक़्त एक दुर्घटना का शिकार हो जाने के बाद मुंबई की केजल पाण्डेय को अस्पताल ले जाया गया पर दुर्भाग्यवश डॉक्टर उसे बचाने में असमर्थ रहे | जिसके बाद केजल के परिवार की सहमती से डॉक्टर ने केजल के अंगों को दूसरे ज़रूरतमंदों को लगाकर 3 लोगों को एक नयी ज़िन्दगी दी | केजल मुंबई की पहली नाबालिग हैं जिसने मृत्यु के बाद अपने अंग दान कर दिए हैं |
केजल के भाई ने कहा “डॉक्टर्स ने हमें समझाया कि यह एक महान कार्य है, और इसके ज़रिये कई जिंदगियां बचाई जा सकती हैं, केजल की दो किडनियां दो अलग – अलग लोगों को लगाया गया और उसके लीवर से एक 14 साल के बच्चे की जान बचाई जा सकी |
केजल का सीबीएसई बोर्ड का दसवीं का रिजल्ट आने आने पर उसके माता-पिता उसका रिजल्ट देखने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे, केजल ने दसवीं की अपनी परीक्षा में 8.6 CGPA स्कोर किया था | केजल के अंगों का दान करके केजल के माता-पिता को लगता है कि इस कार्य से उनकी बेटी अमर हो गयी है |
केजल के पिता ने कहा “यह सहन कर पाना बहुत कठिन है कि वह अब हमारे बीच नहीं है पर उसके अंगों को दान करके ऐसा लगता है जैसे वह अभी हमारे बीच कहीं है | केजल का छोटा भाई अभी भी इस बात पर यकीन नहीं कर पा रहा है कि अब केजल हमारे बीच नहीं रही |

अखंड भारत न्यूज़  केजल के परिवार को सलाम करता है कि उन्होंने ऐसी विषम परिस्थिति में भी अंग दान जैसा बड़ा फैसला लिया जिससे तीन अन्य लोगो को नयी जिंदगी मिल सकी |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY