प्रेम प्रसंग में उलझ कर रह गयी हत्या की वारदात

0
64

हसनगंज/उन्नाव(ब्यूरो)- जहाँ एक तरफ दस दिन गुजरने के बाद भी पुलिस इंस्पेक्टर की तैनाती न होने से युवक की हत्या की गुत्थी प्रेम प्रसंग मे उलझ कर रह गयी है । जिससे सीओ ने सदिग्ध प्रेमिका को सिपाहियो से पूछताछ के लिये कार्यालय पर बुलाने से दुलहन बनने से पहले शादी टूट गयी । लडकी की चार अप्रैल को लखनउ से बारात आनी थी। जिससे बारात की सारी तैयारियो पर पानी फिर गया ।

बीते सोमवार को मोहान के राम कोट निवासी सुजीत यादव पुत्र राम कुमार यादव 22 वर्ष घर से बाइक से चौराहे पर जाने की बात परिजनो से कहकर निकला लेकिन देर रात तक घर वापस न आने पर परिजन खोज बीन मे जुटे रहे। मंगलवार सुबह नौ बजे भाई बिपिन नयोतनी रोड पर आम की बाग मे खोजते गया तो देखा भाई सुजीत काशव पडा मिला । शव के बगल मे सलफास का पाउच व जहर की खाली शीशी पडी थी बाइक भी चाभी लगी खडी मिली ।

परिजनो के दवारा पुलिस को सूचना दी गयी लेकिन कोतवाली निरीक्षक न होने से घंटो पुलिस नही पहुंची।जिस पर चेयरमैन समर जीत यादव ने सीओ को फोन पर जानकारी दी। तब पुलिस हरकत मे आकर मौके पर पहुंची तथा तहसील दिवस मे ए एस पी आर एस गौतम की पहुंचने की खबर पर घटना स्थल पर सीओ आननफानन पहुंच गये। लाश उसी के बाग़ में मिली थी मृतक के पास जहर की पुड़िया व् बियर के खली कैंन जहर की शीशीव पानी की बोतल रखी थी। पहले घटना को आत्महत्या का रूप देने के कयास लगते रहे। लेकिन परिजनों की तहरीर पर सीओ ने अज्ञात हत्या का मामला दर्ज करा दिया लेकिन पुलिस इंस्पेक्टर के न होने से तीसरे दिन भी हत्या की गुतथी प्रेम प्रसंग मे उलझ गयी है। जिस पर तेज तरार गिने जाने वाले सीओ ने खुद जाँच शुरू कर दी।

मृतक की संदिग्ध प्रेमिका सहित एक युवक को अपने सिपासियो से कार्यालय पर बुलाया तथा संबंधो के बारे मे घंटो पूछताँछ की लेकिन कोई अहम सुराग नही मिल सका न ही लडकी का मोबाइल बरामद हुआ। उधर मृतक की पोस्टमार्टम की रिपोर्ट भी स्पष्ट नही हो सकी और बिसरा को सुरक्षित कर जाँच के लिये विधि विज्ञान शाला लखनउ भेजा गया है। सीओ के दवारा लडकी को पूछताँछ के लिये बुलाने पर 4 मई को चिनहट लखनउ से आने बारात कैंसिल हो गयी। जिससे लडकी पक्ष द्वारा लाखो रूपये खर्च करने के बाद सारी तैयारियो पर पानी फिर गया। जहाँ एक तरफ मृतक के परिजन जवान पुत्र की मौत पर आँसू बहा रहे है । वही संदिगध प्रेमिका के परिजनो की खुशियाँ मातम मे बदल गयी। जरा सी नादानी पर दो परिवारो का चैन छिन गया है।

हसनगंज कोतवाली मे निरीक्षक न होने से हत्या व आत्म हत्या का मामला असमंजस मे उलझ गया है हलांकि सीओ ने अज्ञात हत्या का मामला पहले ही दर्ज करा चुके है। सीओ सवतंत्र सिंह ने पी एम के बाद ही कार्यवाही करने की बात पहले ही कर चुके है।लेकिन संदिगध प्रेमिका से कया खुलासा हुआ इसकी सी यू जी नंबर से जानकारी चाही तो फोन नही उठा।

रिपोर्ट- राहुल राठौर

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY