तीन तलाक पर खुलकर बोले पीएम मोदी कहा, मुस्लिम बहनों का शोषण नहीं होना चाहिए

0
124

भुवेश्वर/नई दिल्ली – मुस्लिम समाज के बहुचर्चित और विवादित मुद्दे पर पहली बार प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने भुवनेस्वर से बेहद सधी हुई भाषा का इस्तेमाल करते हुए अपनी प्रतिक्रिया ब्यक्त की है | भुवनेस्वर में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में उन्होंने कहा, हम नहीं चाहते कि तीन तलाक के मुद्दे पर मुस्लिम समाज में टकराव हो। हमारी मुस्लिम बहनों को भी न्याय मिलना चाहिए। किसी का शोषण नहीं होना चाहिए।

उधर, मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने लखनऊ बैठक के बाद साफ कहा है कि मुस्लिमों को अपने पर्सनल लॉ का पालन करने का संवैधानिक हक है और तीन तलाक उसका ही एक हिस्सा है। हालांकि बोर्ड ने शरिया (इस्लामी कानून) के खिलाफ तलाक देने वालों का सामाजिक बहिष्कार करने का फरमान भी जारी किया। भाजपा कार्यकारिणी की बैठक में मोदी के भाषण की जानकारी केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने पत्रकारों को दी। उन्होंने बताया कि सामाजिक न्याय की चर्चा करते हुए पीएम ने तीन तलाक मामले की चर्चा की। मोदी ने कहा कि यदि कोई सामजिक बुराई है तो हमें समाज को जगाना चाहिए और उन्हें (मुस्लिम महिलाओं) को न्याय उपलब्ध कराना चाहिए।

अवॉर्ड वापसी वाले कहां गए ?
पीएम ने अपने भाषण में विपक्ष पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि विपक्ष आज-कल मुद्दों की फैक्टरी बना हुआ है। दिल्ली चुनाव के वक्त चर्च पर हमले का तो बिहार चुनाव के वक्त अवॉर्ड वापसी का मुद्दा चलाया गया। पता नहीं अवॉर्ड वापसी वाले आज-कल कहां हैं? अब ईवीएम में छेड़छाड़ को मुद्दा बनाने की कोशिश कायम है। पीएम ने भाजपा नेताओं को नसीहत देते हुए कहा- वे संयम से काम करें, जीत से ज्यादा उत्साहित न हों। बड़बोलेपन से बचें, बयानबाजी न करें। अगर किसी को शिकायत है तो वे मुझसे से बात करें।

तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई याद रहे, तीन तलाक की संवैधानिक मान्यता पर सुप्रीम कोर्ट गर्मी की छुट्टी में सुनवाई करेगी। इस केस में पक्षकार केंद्र सरकार और कुछ सामाजिक संगठनों ने कोर्ट में कहा है कि तीन तलाक महिलाओं की लैंगिक समानता के अधिकार का उल्लंघन करता है। लैंगिक समानता व धर्म निरपेक्षता के दायरे में इस पर पुनर्विचार होना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here