मेरी कलम भी मेरे जज्बातों से हैं वाकिफ

0
762

मेरे जज्बातों से इस कदर वाकिफ हैं मेरी कलम

मैं इश्क भी लिखना चाहूँ तो भी

इंकलाब लिख जाता हैं !

bhagat singh4

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

nineteen + ten =