जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा से नर्क स्थली में तब्दील हुआ नगरा बाजार

0
51


चिलकहर/बलिया : हमेशा से खूबसूरत दिखने वाला नगरा बाजार इन दिनो जनप्रतिनिधियों व लोकनिर्माण विभाग की उदासीनता व अनदेखी के चलते नर्कस्थली बन गया है। हनुमान चौक से लेकर दुर्गा चौक तक जलनिकासी हेतु बनी नाली ध्वस्त होकर ओवरफ्लो कर रही हैं। गंदे जल से निकल रहा दुर्गंध लोगो के लिए परेशानी का सबब बन गया है। नाक व मुंह ढक कर चौराहे से आना जाना मजबूरी बन गई है। बाजार मे जगह जगह पर दुर्गंध युक्त जल जमा हो गया है। यहां तक कि दुर्गामंदिर व हनुमान मंदिर के सामने ही जल जमाव हो चुका है। ध्वस्त हो चुकी नाली से बराबर गंदा जल निकल रहा है। अब तो संक्रामक बीमारी के फैलने की आशंका से बाजारवासी दहशत मे हैं। आश्चर्य तो यह है कि बाजार से ही होकर जनप्रतिनिधि व अधिकारी प्रायःगुजरते रहते है लेकिन उनकी नजर बाजार की नारकीय स्थिति पर नहीं पड़ती है।

प्रमुख समाजसेवी विजयशंकर यादव का कहना है कि बाजार की हालत दयनीय हो चुकी है। नाली ओवरफ्लो कर रही है। दुर्गंध से चौराहे से आना जाना मुश्किल हो गया है। इस समस्या के समाधान हेतु कोई भी जनप्रतिनिधि संवेदनशील नही है। जयप्रकाश यादव कहते हैं कि नगरा बाजार इन दिनो बदसूरत हो गया है। जनप्रतिनिधि चाहते तो इस नारकीय समस्या से लोगो को निजात मिल जाती। विनोद उपाध्याय का कहना है कि करीब एक साल से नाली ओवरफ्लो कर रही है । दुर्गंध से रखह चलना मुश्किल हो गया है। उच्चाधिकारियों को चाहिए कि इस समस्या का हल निकालें। शत्रुंजय चौबे का कहना है कि जानबूझ कर बाजार की समस्या को जटिल बनाया गया है। अब तो दुर्गंध से संक्रामक बीमारियों के फैलने की आशंका बलवती हो गई है। बाजार मे चारो तरफ दुर्गंध ही फैला है। जनप्रतिनिधियों को पहल करनी चाहिए।

रिपोर्ट – संजय पांडेय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here