खुली नाइक की पोल, युवाओं को मुस्लिम बनाकर ISIS में भर्ती करने के मामले में सहयोगी हुआ गिरफ्तार |

0
322

dr-zakir-naik

मुंबई- देश के सबसे विवादित मुस्लिम धर्म प्रचारक जाकिर नाइक के ऊपर भारत सरकार का शिकंजा कसता जा रहा है | महाराष्ट्र एटीएस ने इस मामले में अहम सफलता प्राप्त करते हुए केरल पुलिस के साथ मिलकर एक ज्वाइंट ऑपरेशन के तहत जाकिर नाइक के बेहद करीबी को गिरफ्तार कर लिया है | जाकिर नाइक के इस बेहद करीबी ब्यक्ति का नाम अरशीद कुरैशी है | इस शख्स को महाराष्ट्र पुलिस ने नवी मुंबई से गिरफ्तार किया है |

गैरमुस्लिम धर्म के लोगों को मुस्लिम बनाने और फिर उन्हें ISIS में भर्ती करने के है आरोप-
बता दें कि अरशीद कुरैशी के ऊपर आरोप है कि उसने केरल से गायब 21 लोगों में से कुछ गैरमुस्लिम युवाओं को पहले मुस्लिम बनाया था और बाद में उन्हें ISIS में भर्ती करने के लिए देश के बाहर भेज दिया था |

पुलिस ने अरशीद कुरैशी को गिरफ्तार करने के बाद सीधे कोर्ट में पेश किया था जहां से कोर्ट ने अरशीद को 4 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में पुलिस को सौंप दिया है | अब 4 दिनों तक सबसे पहले महाराष्ट्र पुलिस उससे पूछताछ करेगी और उसके बाद उसे केरल ले जाया जायेगा |

कोच्चि में पहले ही दर्ज है अरशीद कुरैशी पर मुकदमे –
केरल एक युवा एबिन जैकब ने कोच्चि पुलिस को जानकारी देते हुए बताया है कि उसकी बहन मेरिन उर्फ़ मरियम अपने पति बेस्टिन विन्सेंट उर्फ याह्या के साथ पिछले काफी समय से लापता है | उसने बताया है कि हमनें पहले ही इस मामले में एफआईआर दर्ज करवाई थी | जैकब का आरोप है कि उसकी बहन मरियम को बेस्टिन और अरशीद ने ही इस्लाम स्वीकार करने के लिए उकसाया था और उसने बताया कि जब मरियम ने इस्लाम क़ुबूल कर लिया तो उसके बाद अरशीद ने उसे ISIS में भर्ती करने के लिए सीरिया भेज दिया है |

इन-इन धाराओं के तहत दर्ज किया मुकदमा –
एबिन जैकब के बयानों के आधार पर पुलिस ने दोनों को गैरकानूनी एक्टिविटीज (प्रिवेंशन) एक्ट के तहत गिरफ्तार किया है | जिस मामले में गिरफ्तारी हुई है उसकी एफआईआर केरल में दर्ज है | अरशीद कुरैशी के खिलाफ कोच्चि में आईपीसी की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश) और धारा 153 ए (शत्रुता फैलाने) के साथ-साथ गैर कानूनी गतिविधि निरोधक अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया है |

गौरतलब है कि हाल ही में ढाका में हुए आतंकी हमले शामिल 2 आतंकियों को जाकिर नाइक का प्रशंसक और उसके भाषणों से प्रेरित होकर ही आतंकी गतिविधियों में शामिल होने की बात सामने आई थी | इस घटना के बाहर आने के बाद से ही भारतीय सुरक्षाएजेंसियों के कान खड़े हो गए और इस मामले की गंभीरता को देखते हुए ही सरकार ने मामले के सख्त से सख्त जांच के आदेश दे दिए है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here