तमिलनाडु में गिरा उल्का पिंड, नासा का दावा गलत साबित हुआ |

0
414

ulkaaअमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने दावा किया है कि तमिलनाडु के वेल्लोर में बस ड्राइवर की मौत उल्का पिंड गिरने से हुए विस्फोट की वजह से नहीं हुई थी. बुधवार को नासा ने कहा कि जमीन में हुए विस्फोट के कारण उसकी मौत हुई,
नासा ने मीडिया में आ रही उन खबरों का खंडन किया है, जिनमें कहा जा रहा था कि 8 फरवरी को नटरामपल्ली के भारतीदासन इंजीनियरिंग कॉलेज में हुए विस्फोट में बस ड्राइवर कामराज की मौत हो गई थी, जो उस वक्त कॉलेज बिल्डिंग के नजदीक से गुजर रहा था. उल्का पिंड को इस विस्फोट की वजह बताया जा रहा है |
इस घटना में तीन माली भी घायल हो गए, जो विस्फोट के समय उस जगह की सफाई कर रहे थे, प्रत्यक्षदर्शीयों ने बताया था कि शनिवार की दोपहर उन्होंने किसी उड़ती हुई चीज को धरती की तरफ आते और कैंपस ग्राउंड में गिरते देखा था,
नासा के विशेषज्ञों ने आसमान से गिरी पत्थर जैसी दिखने वाली चीज के उल्का पिंड का हिस्सा होने की संभावना से इनकार किया है. नासा के लिंडले जॉनसन ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि पत्थर जैसी चीज की ऑनलाइन पोस्ट की गई तस्वीरों के आधार पर ये उल्का पिंड की बजाए लैंड-बेस्ड धमाका ज्यादा लगता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here