राष्ट्रीय सागरमाला एपेक्स कमेटी की पहली बैठक 5 अक्टूबर, 2015 को

0
127

nitin-gadkari

राष्ट्रीय सागरमाला एपेक्स कमेटी (एनएसएसी) की पहली बैठक 5 अक्टूबर, 2015 को नई दिल्ली में आयोजित होगी। बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय जहाजरानी व सड़क परिवहन तथा राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी करेंगे। एनएसएसी के सदस्यों में नीति आयोग के उपाध्यक्ष, आंध्र प्रदेश, गोवा, गुजरात, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, ओडिशा, पुडुचेरी, तमिलनाडु व पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री, वित्त, जल संसाधन, नदी विकास व गंगा संरक्षण, शहरी विकास, रेलवे, कृषि, ग्रामीण विकास, नागरिक उड्डयन, कौशल विकास एवं उद्यमिता, पर्यावरण, वन व जलवायु परिवर्तन, वाणिज्य व उद्योग, पर्यटन से जुड़े केंद्रीय मंत्री शामिल हैं। जहाजरानी के सचिव इसके सदस्य संयोजक होंगे।

बैठक के एजेंडे में एनएसएसी के संविधान व कार्यक्षेत्र, सागरमाला की परिकल्पना, सागरमाला के संबंध में भारत सरकार के फैसले, सागरमाला सांस्थानिक प्रक्रिया शुरू करने के बारे में उठाए गए कदम, समुद्र तटीय राज्यों के मंत्रालयों से बातचीत, सागरमाला कार्यक्रम के सिद्धांतों पर प्रगति, परियोजनाओं की पहचान व उन्हें शुरू करना, परियोजनाओं की पहचान व लागू करने में राज्य सरकारों की आलोचनात्मक भूमिका व परियोजनाओं की पहचान करने व लागू करने में मंत्रालयों की भूमिका पर चर्चा करना शामिल है।

सागरमाला परियोजना का मुख्य उद्देश्य बंदरगाहों के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष विकास को बढ़ावा देना और बंदरगाहों से माल परिवहन के लिए बुनियादी ढांचा प्रदान करना शामिला है। इस परियोजना का उद्देश्य है – (1) उपयुक्त नीति व संस्थानिक हस्तक्षेप के जरिये बंदरगाह विकास को बढ़ावा देना व सहयोग करना, इसके लिए अंतर संस्थानिक व मंत्रालय/विभाग/राज्य को स्तर पर एकीकृत विकास के लिए सहयोग सुनिश्चित करने के लिए संस्थानिक ढांचा तैयार करना है, (2) बंदरगाहों पर आधारभूत संरचना को बढ़ाना, जिसमें आधुनिकीकरण व नए बंदरगाह बनाने भी शामिल हैं, (3) बंदरगाहों के परिक्षेत्रों को व परिक्षेत्रों से कुशलतापूर्वक खाली कराना|

Source – PIB

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

2 × three =