14 घंटे बिल्डिंग के नीचे फंसी रही 3 साल की बच्ची, बचाया NDRF ने

0
163

NDRF

कानपुर (ब्यूरो)- आप ने कहावत सुनी होगी कि ‘जाको राखे साइयां, मार सके न कोय’ यह कहावत इस मासूम बच्ची पर सटीक बैठती है। बता दें कि कानपुर जिले के जाजमऊ में बुधवार को एक सपा नेता की निर्माणाधीन 6 मंजिला बिल्डिंग गिर गई थी। इस भयावह मंजर को देख कर हर कोई सन्न रह जा रहा है। लेकिन एनडीआरएफ की बटालियन ने एक तीन साल की बच्ची को 14 घंटे के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन के चलते सकुशल बाहर निकाल कर बचा लिया। अब यह मासूम चर्चा का विषय बनी हुई है।

यह है घटनाक्रम-
जानकारी के मुताबिक, कानपुर में ढही इस बिल्डिंग का मालिक सपा नेता मेहताब आलम है, बिल्डिंग बनवाने का ठेका एक ठेकेदार को दिया गया था। केडीए के विशेष कार्याधिकारी डीडी वर्मा ने बताया कि जाजमऊ के गज्जूपुरवा में महज 20 फुट की गली में 500 गज के प्लॉट पर बन रही बिल्डिंग के निचले फ्लोर पर दुकानें और ऊपर फ्लैट बनाए जा रहे थे। इस बिल्डिंग में दो मंजिल तक बनवाने की परमीशन है लेकिन निर्माण अवैध तरीके से 6 मंजिल तक करवाया जा रहा था।

बुधवार दोपहर करीब 2 बजे जब 50-60 मजदूर छठे फ्लोर की स्लैब डालने का काम रहे थे, तभी अचानक इमारत ढह गई। बिल्डिंग का करीब 25 फुट ऊंचा मलबा भरभरा कर नीचे आ गया इसमें वहां काम कर रहे मजदूर और उनके बच्चे दब गए। स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी और तुरंत लोग मदद को पहुंचे। उन्होंने बताया कि संकरी गली होने के कारण मलबा हटाने और गाड़ियों को अंदर जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

लाइफ सेंसर से बची मासूम की जान –
हादसे की सूचना पाकर 4 बजे लखनऊ से एनडीआरएफ की बटालियन पहुंची और राहत-बचाव कार्य शुरू किया। 12 घंटे बाद रेस्क्यू के दौरान एक आवाज सुनाई दी। इस दौरान एनडीआरएफ की टीम ने लाइफ सेंसर लगाकर जांच की तो पता चला की मलबे में कोई अंदर फंसा है। जैसे ही एनडीआरएफ के जवानों को इस बात की सूचना मिली उन्होंने उस नन्ही सी जान को बचाने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी और अंत में लड़की को सुरक्षित बचा भी लिया |
रिपोर्ट- धर्मेन्द्र शर्मा
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here