इस तरह बच्चों को पढ़ा रहीं हैं टीचर

0
373

हम अक्सर ही सुनते और पढ़ते रहते हैं कि भारतीय मूल के छात्र विदेशों में अपना और अपने देश का नाम ऊँचा कर रहे है जो यह दर्शाता है कि हमारे देश में प्रतिभा की कमी तो बिलकुल नहीं है, बस ज़रूरत है तो उसे तरह से निखारने की, और उन प्रतिभाओं को निखारने के लिए हमें वक़्त के साथ आधुनिक और रचनात्मक होने की ज़रुरत है जैसा की पश्चिमी देशों में हो रहा है |

हाल ही में हालैंड के एक स्कूल में बच्चों को शारीरिक अंगों (बॉडी पार्ट्स) के बारे में समझाने के लिए वहां के अध्यापकों ने एक बड़ा ही अद्भुत तरीका निकलते, वे बच्चों को शारीरिक अंगों की जानकारी देने के लिए बॉडी सूट का प्रयोग कर रहे हैं ताकि बच्चे आसानी से और अधिक बेहतर ढंग से इन चीजों को समझ सकें | इस तरीके के बाद से इस स्कूल का नाम विश्व भर में चर्चा में है |

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

seventeen − 12 =