‘निंद्रा दान केंद्र’ हर वर्ष हजारों ड्राईवरों की जान बचा रहा है |

0
823

GUNTUR_ACCIDENT_2401297gअपनी रोजमर्रा कि ज़िन्दगी में ना जाने कितनी ही ऐसी समस्याएं हैं जिनकी तरफ हमारा ध्यान ही नहीं जाता, सच पूछिए तो हम इन समस्याओं को समस्या मानते ही नहीं, ऐसी ही एक समस्या है लोगों की ज़रूरतें पूरी करने के लिए सड़कों पर बड़े – बड़े ट्रक दौड़ते ट्रक ड्राईवरों की नींद और आराम !
जोकि चीजों को हम तक पहुँचाने के अपने कर्तव्य के चलते ठीक से सो नहीं पाते और अनिद्रा की वजह से अक्सर ही दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं |
आल इंडिया ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन की रिपोर्ट के अनुसार देश में एक्सीडेंट की वजह से होने वाली मौतों में करीब 25% मौतें अनिद्रा की वजह से होती हैं, हर वर्ष करीब 25 से 30 हजार लोग अनिद्रा की वजह से सडक दुर्घटनाओं का शिकार हो जाते हैं |

huffingpost
                                                  “निंद्रा दान केंद्र” फोटो सोर्स – huffintongpost

देश की एक बड़ी ट्रांसपोर्ट कंपनी अग्रवाल पैकर्स एंड मूवर्स के मालिक रमेश अग्रवाल ने ड्राईवरों की इस समस्या की और ध्यान दिया और समस्या से निपटने के लिए नेशनल हाईवे 8 (जयपुर से अजमेर) पर 500 बेड की क्षमता वाले एक ‘निद्रा दान केंद्र’ की शुरुवात की |

huffingtonpost
                                                   “निंद्रा दान केंद्र” फोटो सोर्स – huffintongpost

निद्रा दान केंद्र पर ड्राईवर फ्री में आराम से सो सकते हैं, इसके अलवान निंद्रा दान केंद्र बाथरूम, नाई, धोबी और पार्किंग की सुविधाएँ भी फ्री में मुहैया करवाता है | श्री रमेश अग्रवाल के इस प्रयास से जयपुर-अजमेर हाईवे पर हर महीने करीब 40 जिंदगियां बचाई जा रहीं हैं |जल्द ही निंद्रा दान केंद्र का एक और केंद्र कोलकाता-सूरत हैवी पर खुलेगा |
अखंड भारत परिवार श्री रमेश के इस प्रयास की कोटि – कोटि सराहना करता है, और भारत सर्कार से निवेदन करता है कि ड्राईवरों की इस समस्या पर गंभीरता से विचार किया जाये और हर हाईवे पर निंद्रा दान केंद्र जैसी सुविधाएँ मुहैया करने के प्रयास किये जाएँ |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY