अब नहीं होगी धांधली, ठेकेदार घर बैठे डाल सकेंगे टेंडर

0
54

बदायूँ (ब्यूरो) प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप एक सितम्बर से ई-टेडरिंग व्यवस्था लागू हो जाएगी। ठेकेदारों को घर बैठे ही ऑनलाइन टेंडर डालने की सुविधा उपलब्ध होगी। इस व्यवस्था के लागू होने से धांधली की सम्भावनाओं पर पूर्ण विराम लग जाएगा। सभी निर्माण कार्यां की पारदर्शिता बनी रहेगी। ठेकेदार टेंडर खुलने, निरस्त होने तथा किस व्यक्ति का टेंडर स्वीकृत हुआ, सभी जानकारियाँ घर बैठे ही ऑनलाइन देख सकेंगे।

मंगलवार को विकास भवन स्थित सभागार में तकनीकी विभागों के अभियन्ताओं सहित नगर निकाय के अधिशासी अधिकारियों तथा अन्य जिला स्तरीय अधिकारियों को ई-टेडर व्यवस्था का प्रशिक्षण दिया गया। मुख्य विकास अधिकारी/प्रभारी जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय ने सम्बंधित अधिकारियों से कहा कि अब किसी भी कार्य के लिए मैन्युअल टेंडर व्यवस्था के स्थान पर ई-टेंडर प्रक्रिया ही अपनाना होगी। उन्होंने कहा कि सम्बंधित अधिकारी ई-टेंडर व्यवस्था को भलीभांति समझ लें, जिससे बाद में होने वाली परेशानियों से बचा जा सके।

कोई भी परख सकेगा पारदर्शिता
ई-टेंडर प्रणाली के तहत सम्बंधित विभाग की वेबसाइट पर जाकर टेंडर की सारी प्रक्रिया को साधारण फार्म भरने की तरह पूरा करना होगा। निविदा शुल्क के भुगतान और धरोहर राशि के भुगतान तथा वापसी की प्रक्रिया भी ऑनलाइन ही की जाएगी। कोई भी व्यक्ति कही भी बैठकर पूर्ण ई-टेंडरिंग प्रक्रिया की जानकारी हासिल कर सकेगा। विभागीय वेबसाइट पर जाकर कितने लोगों ने टेंडर डाला, किसे टेंडर मिला, कार्य की लागत कितनी है, यह सब जानकारियाँ मिलने से टेंडर और कार्य की पारदर्शिता बनी रहेगी। कोई भी व्यक्ति अन्य ठेकेदार के रेट से लेकर किसी प्रकार की जानकारी टेंडर खुलने से पहले हासिल नहीं कर सकता है। यह व्यवस्था लागू होने से किसी गड़बड़ी या मनमानी की कोई गुंजाइश नहीं होगी। प्रशिक्षण में जिला विकास अधिकारी सेवाराम चौधरी, उपायुक्त उद्योग केन्द्र वीरेन्द्र कुमार, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. ए.के. जादौन, जिला उद्यान अधिकारी आरएन वर्मा, अधिशासी अधिकारी निशा मिश्रा सहित सम्बंधित अधिकारी मौजूद रहे। टेंडर खुलने और निरस्त होने की जानकारी आवेदक ठेकेदार को एसएमएस के माध्यम से उपलब्ध होगी।

रिपोर्ट – सोनू यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here