कभी पहनने के लिए नहीं था कास्ट्यूम, आज रियो ओलंपिक में रच दिया इतिहास…

0
906

Dipa karmakar

ओलंपिक में जिम्नास्टिक के फाइनल में पहुँच कर भारत का नाम गौरवान्वित करने वाली दीपा करमाकर के पास Gold Medal जीत कर पहली भारतीय महिला बनने का सुनहरा मौका है आइये एक नज़र डालते हैं इनके पूर्व संघर्ष एवं उपलब्धियों पर, दीपा करमाकर ने अपनी जिमनास्टिक प्रैक्टिस 6 साल की उम्र से ही शुरू कर दी थी, त्रिपुरा की राजधानी अगरतला की रहने वाली दीपा करमाकर ने अपनी कोचिंग जिमनास्टिक कोच के दिग्गज बिस्बेश्वर नंदी से ली |

इनके पिता स्वयं ही Sports Authority of India में एक कोच थे तथा हमेशा से ही अपनी बेटी को एक कुशल Gymnast बनाना चाहते थे और उन्होंने ऐसा ही किया, अपने पिता की ख़ुशी और आदर के लिए उन्होंने न सिर्फ इसे अपनाया बल्कि अपनी ज़िन्दगी ही बना लिया लेकिन ये सफ़र कभी आसन नहीं था, ध्यान देने योग्य बात यह है कि 2007 के जलपाईगुड़ी में हुए Junior Nationals में जब वह पहली बार जिमनास्टिक प्रतियोगिता में हिस्सा ले रहीं थी तब उनके पास न जूते थे और न ही प्रतियोगिता में पहनने के लिए कॉस्ट्यूम था तब दीपा ने जो उधार का कॉस्ट्यूम लिया था, वह उन पर पूरी तरह से फ़िट भी नहीं हो रहा था, लेकिन इन सब मुश्किलों क बावजूद इसमें न केवल भाग लिया, बल्कि इस प्रतियोगिता को जीत कर अपने सफ़र की शुरुआत की 2007 से उन्होंने एक के बाद एक State, National और International championships में अपना लोहा मनवाकर 77 मेडल अपने नाम किए जिसमे से 67 Gold Medal शामिल हैं |

2014 में Glasgow व Commonwealth Games में धूम मचाने के बाद 2015 में जापान के हिरोशिमा में हो आयोजित हुए World Artistic Gymnastics Championships में क्वालीफाई होने वाली पहली भारतीय बनीं हाल ही में दीपा करमाकर ने रियो ओलंपिक में जिमनास्टिक्स के फ़ाइनल में जगह बनाई है वह ऐसा करने वाली पहली भारतीय महिला खिलाडी हैं देबासीस मोंडल (1964) के बाद वो पहली भारतीय हैं, जिन्होंने रियो ओलंपिक जिम्नास्टिक के फ़ाइनल में जगह बनाई है हमें आशा ही नहीं बल्कि पूरा विश्वास है कि वो पदक हासिल करके अपना और अपने देश का नाम रोशन करेंगी |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here