सरकारी ज़मीनों पर अभी भी भूमाफियों का कब्जा, योगी के फरमान का नहीं दिख रहा असर

0
87

बांगरमऊ/उन्नाव (ब्यूरो) तहसील क्षेत्र में सरकार द्वारा चलाए जा रहे सरकारी भूमि पर अवैध कब्जेदारों को बेदखल करने का असर नजर नहीं आ रहा है। दबंग भू-माफिया गांव-गांव सरकारी जमीनों पर तो कब्जा जमाए ही हैं इसके अलावा कई ग्रामों व् नगरों में निजी मकानों और पट्टे की जमीनों पर भी अपनी दबंगई के बल पर कब्जा जमाकर अपना स्वामित्व बनाये हैं।

ज्ञातव्य है कि प्रदेश सरकार ने प्रदेश के लगभग सभी जिलाधिकारियों व उप जिला अधिकारियों को निर्देश जारी कर कहा है कि सरकारी भूमि व् भवनों पर जो लोग अवैध रुप से कब्जा कर अपना स्वामित्व बता रहे हैं उनको तत्काल रुप से उन भूमियों से बेदखल किया जाए ।किंतु किस तहसील क्षेत्र में सरकार द्वारा संचालित यह अभियान फिसड्डी साबित हो रहा है ।नगरपालिका क्षेत्र बांगरमऊ, सराय, पटपरगंज, तेरवा जहांगीराबाद, कुरौली, रानीपुर ग्रंट, छोटी जमुनिहा, साल्हेपुर पुरवा आदि ऐसे गांव है जहां सरकारी जमीन चारागाह व् आबादी आदि के लिए आरक्षित है उस पर दबंग भू माफिया कब्जा किए ही हैं साथ साथ लोगों की भूमि धरी जमीन और मकानों पर भी दबंग भू माफियाओं का कब्जा बना हुआ है ।

ग्राम पंचायत कुरौली के दिनेश कुमार, पंकज, विनोद कुमार, बृजकिशोर ,महेश कुमार, आदि ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर कहा है कि उनके गांव में खाता संख्या 0016 गाटा संख्या 222 व् 291 सुरक्षित चारागाह के लिए भूमि दर्ज है और इस जमीन के बीच से बरुआ घाट हफीजाबाद मार्ग निकला है । जहां कुछ वर्ष पूर्व गंगा में आई बाढ़ के दौरान कट गए गांव बद्री पुरवा के लोगों को प्रशासन ने बसा दिया था। बाढ़ का पानी निकल जाने के बाद उक्त गांव की भूमि निकल आई किंतु यहां बसाए गए लोग आज भी उसी भूम पर काबिज है और अपने गांव वापस नहीं गए हैं । उनका कब्जा उनके गांव की भी भूमि पर है और यहां चारागाह की भूमि पर भी पूर्ण रूप से अपना अधिकार बनाए हुए हैं । इससे गांव के लोगों को परेशानी होती है और गांव के पशुओं के सामने चारे की भी समस्या बनी हुई है । इन लोगों ने जिलाधिकारी से उक्त आरक्षित चारागाह की भूमि को खाली कराने की मांग की है ।

इसी तरह क्षेत्र के तेरवा जहांगीराबाद निवासी किसान ज्ञानस्वरूप ने उप जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर बताया कि उसके गांव में अभी हाल ही में चकबंदी हुई थी और उसने चकबंदी अधिकारियों को मन मांगी रकम नहीं दे पाई जिससे उसकी भूम धरी उपजाऊ जमीन को दूसरे को दे दिया गया और उसकी भूमि के बदले उसके नाम ऊसर भमि कर दी गई । उसने अपने पत्र में बताया है कि जो भूमि उसको मिली है उसमें अनाज होना मुश्किल है। जिससे भविष्य में उसके सामने परिवार के पालन पोषण की समस्या खड़ी हो जाएगी । रानीपुर ग्रंट के ग्रामीणों ने उप जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर गांव की दो बीघा जमीन पर जो ग्राम समाज के रूप में दर्ज है पर अवैध रूप से भू-माफियाओं के काबिज होने की शिकायत दर्ज कराई है, नगर पालिका बांगरमऊ के मोहल्ला सराय निवासी बदरुद्दीन पुत्र खलील अहमद ने पिछले 1 वर्ष के दौरान दर्जनों प्रार्थना पत्र उच्च अधिकारियों को देकर बताया है कि उनका पुश्तैनी मकान पंजाबी टोला में 37 नंबर पर पालिका के अभिलेखों में दर्ज है और वह उस मकान का ग्रह कर व् जलकर भी पालिका प्रशासन को दे रहे हैं । 12 अगस्त 16 को मोहल्ले के ही कुछ दबंगों ने नाजायज असलहों के बल पर उनके मकान पर कब्जा कर लिया था । राजनैतिक प्रभाव के चलते उस समय उस की कोतवाली में रिपोर्ट भी नहीं लिखी गई और आज भी वह अपना मकान पाने के लिए अधिकारियों के दरवाजों को खटखटाता घूम रहा है।

इसी तरह ग्राम साल्हेपुर पुरवा में रामरति पत्नी रामरतन जो बंगलोर कर्नाटक में परिवार के साथ रहती हैं ने जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देकर बताया की गांव के ही श्रवण कुमार पुत्र मुन्नीलाल ने उसके मकान पर दबंगई से कब्जा बना लिया है । ग्राम छोटी जमुनिया में चाकरोड की भूमि पर कब्जा करने वाले लोग जब लेखपाल चकरोड भूमि को नापने गया तो उसके सामने ही आपस में लाठी डंडों से मारपीट कर बैठे और घटना में कम से कम आधा दर्जन लोग घायल हुए। दोनों पक्षों ने पुलिस को रिपोर्ट दर्ज कराई किंतु अवैध कब्जेदारों से चकरोड खाली नहीं कराया जा सका । ग्राम सराय में शिवलाल व राजबहादुर की पट्टे की भूमि पर वर्षों से भूमाफिया काबिज है। इन लोगों की दर्जनों शिकायते होने के बाद भी अभी तक उनकी पट्टे की भूमि अवैध कब्जेदारों से मुक्त नहीं की जा सकी है। इसके अलावा तहसील क्षेत्र के विभिन्न ग्राम पंचायतों में ग्राम पंचायत की भूमि, चारागाह, तालाब की भूमि पर अवैध रूप से काबिज लोगों के खिलाफ राजस्व विभाग की ओर से 115 डी की कार्यवाही अमल में लाई जा रही है, लेकिन इस कार्यवाही का कोई असर दबंग भूमाफियाओं पर पड़ता नजर नहीं आ रहा है। इस संबंध में उप जिलाधिकारी इंद्रसेन यादव ने बताया कि अवैध कब्जेदारों को बेदखल करने का अभियान तहसील क्षेत्र में चल रहा है और जहां आवश्यकता होती है वहां 115 डी की कार्यवाही भी की जा रही है।

रिपोर्ट – रघुनाथ प्रसाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here