सड़क न होने ग्रामीणों ने लिया मतदान बहिष्कार का फैसला

0
149

boycott of voting
जालौन : ग्राम अतरछला के ग्रामीणो ने भी 23 फरवरी को मतदान न करने का फैसला किया। गांव की आने, जाने वाली सड़क न होने से ग्रामीणों ने यह फैसला लिया। इसकी सूचना जिलाधिकारी को दी गयी है।

एक ओर जहाँ प्रशासन मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए लाखों रूपए पानी की तरह बहा रहा है। निजी संस्थानों से ले कर सरकारी, गैर सरकारी संस्थान रैली निकाल कर नुक्कड़ सभा कर मतदान के लिए लोगों को प्रेरित कर रहे हैं। तो वही गांवों में विकास से कोसों दूर होने से ग्रामीण न सिर्फ नेताओं से नाराज हैं बल्कि प्रशासन को भी इसका जिम्मेदार मानते हैं। इसलिये उन्होंने इस बार विधान सभा में चुनाव का बहिष्कार करना प्रारंभ कर दिया। ऐसा ही एक मामला ग्राम अतरछला का प्रकाश में आया है। यहां के एक सैंकड़ा से अधिक ग्रामीणों ने जिलाधिकारी संदीप कौर तथा उपजिलाधिकारी शीतला प्रसाद यादव को ज्ञापन देते हुए बताया कि गांव के लिए वर्षों से सड़क नहीं बनी है। अतरछला मार्ग हदरूख से जुड़ा है इस रास्ते मे इतने गहरे गडढे हैं कि रास्ते मे पैदल चलना भी दूभर है। इसकी सूचना कई बार प्रशासन के साथ ही नेताओं को भी दी गई। लेकिन आज तक कोई ठोस कदम नही उठाया गया। हालांकि यह लोकत्रंत का महापर्व है। इसमें सहभागिता करना हम लोगों का धर्म होने के साथ ही कर्तव्य भी है। लेकिन गांव के विकास की अनदेखी है इसलिए ग्रामीणों द्वारा यह कदम उठाया जा रहा है। इस मौके पर ग्रामीण दर्शन सिंह, उमेश कुमार, लक्ष्मण सेंगर, महेश सिंह, वीरेंद्र सिंह, हाकिम सिंह, रघुराज, दयाराम समेत तमाम ग्रामीण उपस्थित थे।

रिपोर्ट – अनुराग श्रीवास्तव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here