कैसे हो आगे की खरीद जब गोदाम भी भर गये

0
53

कोंच (जालौन ब्यूरो) : एक तरफ किसान अपना गेहूं लिये क्रय केन्द्रों पर खड़ा है तो दूसरी ओर केन्द्रों पर वारदाना और पैसा खत्म हो जाने से स्थिति खराब हो गई है। सहकारी क्रय विक्रय समिति हो एलएसएस जुझारपुरा, पैसा और वारदाना नहीं होने के कारण सोमवार से इन केन्द्रों पर खरीद भी बंद हो सकती है। शनिवार को एसडीएम मोईन उल इस्लाम और तहसीलदार भूपाल सिंह ने इन केन्द्रों का जब दौरा किया तो केन्द्र संचालकों ने उन्हें सारी स्थिति से अवगत करा दिया। एक बड़ी समस्या वारदाने में यह भी आ रही है कि जूट का वारउाना होने के कारण सिलाई मशीन काम नहीं कर पा रही है जिससे दिक्कत आ रही है।

अभी गेहूं की सरकारी खरीद का शुरुआती दौर ही है और क्रय केन्द्र किसानों का गेहूं आगे से खरीद पाने में हाथ खड़े करने की ओर बढ रहे हैं। नगरीय क्षेत्र में लेकिन मंडी से बाहर चल रहे दो केन्द्रों सहकारी क्रय विक्रय समिति तथा एलएसएस जुझारपुरा का निरीक्षण करने पहुंचे एसडीएम मोईन उल इस्लाम व तहसीलदार भूपाल सिंह ने जब स्थिति देखी तो कुछ किसान अपना माल जरूर तौलवा रहे थे लेकिन केन्द्र संचालकों ने आगे की खरीद की तस्वीर का खाका जरूर खींच दिया कि शायद वे सोमवार से गेहूं की खरीद न कर पायें। कारण में बताया गया कि अब न तो उनके पास वारदाना ही बचा है और न ही अंटी में पैसा ही है। इसके अलावा माल का ट्रांसपोर्टेशन नहीं हो पाने के कारण उनके गोदाम फुल हो चुके हैं और अगली खरीद का गेहूं रखने के लिये उनके पास जगह नहीं है। क्रय विक्रय समिति ने अब तक 1611 कुंतल गेहूं खरीदा है और जो 12 लाख रुपया उन्हें मिला था वह किसानों को दिया जा चुका है, किसानों का 10 लाख बकाया भी देना है। समिति के सचिव अशोक गुप्ता ने बताया है कि अब तक एक भी बोरे का यहां से उठान नहीं हुआ है। एलएसएस जुझारपुरा में अब तक 1123 कुंतल गेहूं खरीदा गया और मिले 8 लाख रुपये में से 7 लाख 30 हजार के भुगतान किसानों को कर चुके हैं जबकि 8 लाख किसानों का देना है। एसडीएम ने उन्हें भरोसा दिया है कि सारी रिपोर्ट बना कर वह डीएम को भेज रहे हैं, शीघ्र ही पैसा और वारदाना उन्हें उपलब्ध कराया जायेगा ताकि खरीद का काम प्रभावित न होने पाये।

रिपोर्ट – अनुराग श्रीवास्तव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here