न पाठ्यक्रम, न सुविधाएं फिर भी हुई नकलविहीन परीक्षाएं

0
73

बिसवां/सीतापुर(ब्यूरो)- मदरसा बोर्ड का पहला दिन आज समाप्त हुआ पूरा दिन नकलविहीन परीक्षाएं हुईं। ऐसे में मदरसा छात्र-छात्राओं ने एक मिसाल पेश कर दी ।  इस वर्ष कस्बे की 2 कॉलेजों को सेंटर बनाया गया है हालांकि जिले से 23 केंद्र बनाए गए है। ज्ञात हो कि उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड द्वारा संबंधित कोर्स का निर्धारण नही किया गया ना ही मार्केट में एक भी किताबें उतारी गई जिससे छात्र-छात्राएं हमेशा की तरह इस वर्ष भी अपने को असहाय महसूस कर रहे हैं । यहां पर सवाल यह उठता है कि क्या मदरसा बोर्ड की तरज पर संस्कृत बोर्ड या अन्य बोर्ड में भी कोई पाठ्यक्रम नहीं है या ( शिकंजा कसा गया) मदरसा के छात्र छात्राओं छात्राओं के साथ ऐसा सौतेला बर्ताव क्यों किया गया|

उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड द्वारा नकलविहीन परीक्षा कराने के लिए खूब कमर कसी गई, कोडिंग सिस्टम, सीसीटीवी कैमरे, अस्थाई केंद्र, तो कहीं स्टाफ में बदलाव, ऐसा लग रहा है, मदरसा बोर्ड के उच्च अधिकारी योगी जी को बदनाम करने की साजिश रच रहे हैं । आपको बता दें की नगर के श्री कृपा दयाल म्युनिसिपल इंटर कॉलेज का हाल बेहाल था, कमरों में सिर्फ सीसीटीवी कैमरे ही चमक रहे थे, और सुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं था। पंखे का अभाव,छत के नाम पर सीमेंट युक्त तख्तें, गर्द व जाला युक्त बेंचें, कक्ष के नजदीक पानी का अभाव इस तरह गर्मी का आलम यह था कि बच्चे एक तरफ लिखते तो दूसरी तरफ पसीना पोछते वही पसीना कापी के ऊपर गिरता और उनका लिखा हुआ सब कुछ छूट जाता।

रिपोर्ट- वहाजुद्दीन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here