एनआरएचएम घोटाला: 23.5 करोड़ की संपत्ति जब्त

0
194

लखनऊ- बहुचर्चित एनआरएचएम घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बुधवार को दो आरोपियों की 23.54 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त की। ये संपत्तियां नई दिल्ली के अलावा हरियाणा के सोनीपत व कानपुर में हैं।

ओटी निर्माण में घपला- ये संपत्तियां एनआरएचएम के तहत जिला अस्पतालों में माड्युलर आपरेशन थियेटर के निर्माण में हुए घोटाले के सिलसिले में जब्त की गई हैं|

बढ़े दाम पर आपूर्ति- एनआरएचएम घोटाले के इस मामले में सीबीआई जांच के बाद इसी मामले में ईडी ने भी मनी लौन्डरिंग का केस दर्ज किया। ईडी ने देश में कई स्थानों पर छापे मारे थे। जांच से पता चला कि वास्तविक दरों से भी अधिक दाम पर चिकित्सकीय उपकरणों की आपूर्ति की गई थी। योजना के तहत आवंटित 32 करोड़ रुपये में से 21 करोड़ रुपये का दुरुपयोग किया गया। बुधवार को ईडी के संयुक्त निदेशक डॉ. राजेश्वर सिंह ने आरोपी फर्म के प्रोपराइटर नरेश ग्रोवर और यूपीएसआईसी के तत्कालीन एमडी अभय कुमार बाजपेयी की संपत्तियां जब्त कर लीं | देवरिया से बसपा विधायक रहे आरपी जायसवाल व पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा इस मामले में सीबीआई द्वारा गिरफ्तार कर जेल भेजे गए थे|

ज़ब्त की गयी संपत्ति-
(1.) नई दिल्ली में अशोक विहार फेज1 स्थित आवास बी-42 कीमत: 17.11 करोड़ रुपये (2.) सोनीपत (हरियाणा) स्थित मेसर्स सर्जिकान मेडिक्विप प्राइवेट लिमिटेड कीमत: 5.50 करोड़ रुपये मालिक: नरेश ग्रोवर ( दोनों के), आपूर्तिकर्ता फर्म के प्रोपराइटर (3.) कानपुर कैंट के नवशील अपार्टमेंट में ब्लॉक नंबर 4 स्थित 1 नंबर अपार्टमेंट कीमत: 93 लाख रुपये मालिक: अभय कुमार बाजपेयी तत्कालीन एमडी, यूपी स्माल स्केल इंडस्ट्रीज कार्पोरेशन (यूपीएसआईसी)|

राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन में यह घोटाला वर्ष 2010-11 में हुआ था। इसमें यूपीएसआईसी द्वारा अस्पतालों में चिकित्सकीय उपकरणों की आपूर्ति में अनियमितताएं करते हुए एनआरएचएम के बजट का दुरुपयोग किया गया था। हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने इसकी जांच शुरू की थी।

रिपोर्ट- मिंटू शर्मा
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here