स्वच्छता मिशन को अफसर दिखा रहे अँगूठा, शौचालय निर्माण में घपलेबाजी

0
61

भदोही (ब्यूरो) उत्तर प्रदेश के भदोही जिले के डीघ ब्लॉक के इसी गांव में स्वच्छता मिशन को अफसर अँगूठा दिखा रहे हैं । शौचालय निर्माण में घपलेबाजी की जा रही है । जिलाधिकारी के सख्त हिदायत के बाद मामला गर्म हो गया है। स्वच्छता अभियान के प्रति सरकार की गम्भीरता को देख अधिकारियों,कर्मचारियों सहित ग्राम प्रधान के हाथ पांव फूल गए हैं। मामला डीघ ग्रामसभा का है जिसे शौचमुक्त ग्राम घोषित करने हेतु वर्ष 2016-17 में कुल 3100 शौचालय निर्माण हेतु धन आवंटित किया गया था। लेकिन सम्पूर्ण कार्य हुए बगैर धन निकाशी की बात आ रही है । जाँच में तकरीब 70 की घपलेबाजी होने का अंदेशा है । हालांकि यह तस्वीर जाँच के बाद साफ होगी ।

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार डीघ ग्राम में कुल 44 मज़रें हैं जिनमें 3100 शौचालय निर्माण हेतु कुल तीन करोड़ बहत्तर लाख रुपये की धनराशि ग्राम निधि (6)में जिला प्रशासन द्वारा भेजी गई थी । जिसमें से लगभग 400 शौचालयों के निर्माण होने की बात कही जा रही है। जबकि ग्राम निधि 6 से लगभग 1 करोड़ 20 लाख रुपये की निकासी ग्राम प्रधान व सचिव की मिलीभगत से होने की बात आई है। अतः यदि 400 शौचालय के निर्माण की बात सत्य है तो 600 के करीब शौचालय निर्माण में लगने वाले 70 लाख से अधिक धन का अग्रिम भुगतान या निकासी क्यों की गई ? यह अपने आप में बड़ा सवाल है ।

पिछले दिनों जिलाधिकारी विशाख जी ने ज्ञानपुर विकास खण्ड सभागार में बैठक कर अधिकारियों व कर्मचारियों को फटकार लगाते हुए इस माह के अंत तक पूरे 3100 शौचालय के निर्माण हेतु अल्टीमेटम दिया है । अब डीएम के अल्टीमेटम के बाद ब्लॉक अधिकारियों व कर्मचारियों में हड़कंप मच गया है।हालात यह है की अब सारे दिन ब्लॉक मुख्यालय से लेकर डीघ गांव तक भागदौड़ हो रही है । अफसरों में अफरा-तफरी का आलम है । आनन – फानन में बुधवार को खण्ड विकास अधिकारी द्वारा एक आदेश जारी किया गया जिसमें डीघ गांव के 44 मजरों में युद्धस्तर पर शौचालय निर्माण कार्य कराने हेतु विकास खण्ड के समस्त ग्राम पंचायत अधिकारियों,कर्मचारियों एवं तकनीकी सहायकों तथा कई दर्जन रोजगार सेवकों को ड्यूटी पर लगाया गया है। खण्ड विकास अधिकारी आजम अली ने गांव का दौरा किया व कटरा बाजार स्थित एक प्रतिष्ठान में पूरी टीम के साथ बैठक कर अतिशीघ्र व युद्धस्तर पर कार्य कराने हेतु सख्त निर्देश दिया।

रिपोर्ट – रामकृष्ण पाण्ड़ेय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here