बच्चे की मौत पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर बवाल

0
121

आज़मगढ़- अतरौलिया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर गर्भ में ही एक बच्चे की मौत के बाद लापरवाही को लेकर मंगलवार को हंगामा हो गया। इस दौरान पीड़ित ने कमीशनखोरी के चलते बच्चे की जान लेने का आरोप लगाया।

इस दौरान किसी ने 100 नं पर डायल कर दिया। मौके पर पहुँची पुलिस ने स्थिति को संभाला। अतरौलिया कस्बा निवासी दिलीप सोनी का आरोप है कि वह अपनी पत्नी नीलम सोनी 32 वर्ष को अतरौलिया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर डिलवरी से पहले दिखाने के लिए ले गया था। जहां महिला चिकित्सक ने प्रसूता को देखने के बाद सोनोग्राफी चेकअप कराने की सलाह दी तथा एक अपने संपर्क के सोनोग्राफी सेंटर से सोनोग्राफी कराने को कहा। मगर दिलीप सोनी ने वहा सोनोग्राफी न कराकर दूसरे सोनोग्राफी सेंटर से सोनोग्राफी कराया, जिससे खिन्न आकर डॉ ने रिपोर्ट देखने से मना करते हुए कहा कि उसी डॉक्टर को दिख दीजिए, विनती करने के बाद भी डॉक्टर का दिल नहीं पसीजा और मरीज को उसी हाल पर छोड़ कर के चली गई।

सोमवार की भोर में अचानक मरीज की तबीयत खराब होने पर दिलीप ने अपनी पत्नी को अतरौलिया हॉस्पिटल लाया गया तो वहां पर एक मृतक मृत बच्चे को जन्म दिया। मृतक के पिता दिलीप का आरोप है की चिकित्सका अगर रिपोर्ट देख कर मेरे पत्नी को देख ली होती और अगर सही सलाह दे दी होती तो मेरे बच्चे की जान बच जाती। इस बात को लेकर के स्थानीय लोगों में काफी आक्रोश है इस संबंध में अतरौलिया स्वास्थ अधीक्षक डॉक्टर शिवाजी सिंह से पूछा गया तो उन्होंने कहा की अगर डॉ साहब ने ऐसा किया तो गलत है मगर यह डिलवरी खतरनाक थी। महिला चिकित्सक डॉक्टर से जब पूछा गया तो उन्होंने कहा की मैने ऐसा नहीं कहा उन्हें सोनोग्राफी की सलाह दिया था मगर इनका आरोप झूठा था ।


रिपोर्ट- संदीप कुमार त्रिपाठी संगम

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY