विष्णु महायज्ञ के पाँचवें दिन उमड़ा भक्तों का रेला

0
106

रतसर (बलिया)। समीपवर्ती सिकरिया गांव स्थित चोगड़ा -रतसर मार्ग के पास श्री राम जानकी मन्दिर परिसर में चल रहे विष्णु महायज्ञ के मंडप में परिक्रमा करने के लिए रोजाना हजारो श्रद्धालु पहुंचने लगे है। धार्मिक आस्था के अनुरूप छोटे-छोटे बच्चे और महिला पुरुष सुबह से ही परिक्रमा स्थल पर जुटने लग जाते है। क्षेत्र में महायज्ञ होने से इस तरह का धार्मिक वातावरण बना हुआ है कि नौकरी, रोजगार, खेती, मजदूरी या निर्धारित कार्य के लिए अन्यत्र जाने वाले भी पहले यज्ञ मंडप में प्रणाम और परिक्रमा करते हुए अपने-अपने काम में निकलते है। लगभग सभी समुदाय के दिल दिमाग में धर्म और सदाचरण का संचार होने से महायज्ञ के गतिविधियों में शामिल होने लगे है। महायज्ञ के पांचवे दिन मंगलवार को भी यज्ञ दर्शन के लिए दूर-दूर से काफी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे है।

सुबह से देर शाम तक जारी हवन में भाग लेने तथा हवन का धुंआ ग्रहण करने के लिए मंडप परिसर में श्रद्धालुओं की भीड़ हमेशा लगी रहती है। शाम ढलते ही यज्ञ समापन और देवी -देवताओं की आरती शुरु हो जाती है। इस कार्यक्रम में आचार्य के साथ नागरिक भी बड़ी संख्या में भाग ले रहे है। सान्ध्य प्रवचन बेला में साध्वी अंजली द्विवेदी ने बताया कि शुद्ध चित और लक्ष्मी नारायण के प्रति समर्पण होकर मंडप परिक्रमा करना चाहिए। मन में ही ऊं नमः भागवते वासुदेवाय का जप करते हुए परिक्रमा करना चाहिए। उन्होंने कहा कि वैदिक काल से ही देवी-देवता के परिक्रमा करने का सिद्धान्त शुरु हुआ था। भगवान गणेश ने भी परिक्रमा किया तथा सभी यज्ञ में परिक्रमा करने का विधान रहा है। यही कारण है कि महायज्ञ संचालित मंडप में सिर्फ एक बार परिक्रमा करने से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है।
कथा के आयोजन में अजय यादव, राजेश यादव, मनोज यादव, पिन्टू शर्मा, जनार्दन शर्मा, राम आशीष शर्मा, सुशील शर्मा सहित काफी संख्या में श्रद्धालु शामिल रहे।

रिपोर्ट धनेश पांडे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here