वर्ष मे होगा एक लाख पहियों का उत्पादन

0
93


रायबरेली। लालगंज मे स्थापित हो रही फोज्र्ड व्हील प्लांट मे आरआईएनएल व रेल मंत्रालय के बीच हुये करार के अनुसार प्रोडक्सन के एक लाख पहियो मे से 80 हजार व्हील रेल मंत्रालय स्वयं लेगा। आगे चलकर मांग के अनुसार करार बढ भी सकता है। सितंबर 2018 तक पहिया कारखाने के पूरी तरह से बनकर तैयार हो जाने की सम्भावना जतायी जा रही है। पहियों के उत्पादन के बाद रेल मंत्रालय पहियों की जांच परख व गुणवत्ता को परखने के बाद पासिंग की मोहर लगायेगा। तब जाकर आरआईएनएल फोज्र्ड व्हील प्लांट को राष्ट्र को समर्पित करेगा।मार्च 2019 तक व्यवसायिक रूप से उत्पादन चालू होने की बात कही जा रही है।

हिन्दुस्तान के रेलकोच काखानों मे कोचों मे लगाये जाने वाले पहिये विदेशों से मंगाये जा रहे है ,जिसके चलते भारी मात्रा मे सरकार को विदेशी मुद्रा खर्च करनी पडती है। अभी तक भारत मे फोज्र्ड व्हील चीन, रूस,जर्मनी, ब्राजील व चेक गडराज्य से मंगाये जाते है। अब फोज्र्ड व्हील टेक्नोलाजी के कारखाने के निर्माण से विदेशी मुद्रा की भारी बचत होगी। उल्लेखनीय है कि फोज्र्ड व्हील टेक्नोलाजी अन्य देशो मे पहले से ही विकसित हो चुकी है।

रेलकोच कारखाने के बाद अब रेल पहिया कारखाने मे भी बेरोजगारों को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे। फैक्ट्री निर्माण होते ही प्रोडक्शन चालू करने के लिये करीब 350 अधिकारी व कर्मचारी फैक्ट्री प्रबंधन नियुक्ति करेगा। टेक्नीकल व नानटेक्नीकल कर्मचारी को कार्य का अवसर प्राप्त होगा, जिससे लालगंज क्षेत्र खुसहाल होगा। उल्लेखनीय है कि रेलकोच कारखाने के जरिये प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष 5 हजार लोगों को रोजगार उपलब्ध हो रहा है।
रिपोर्ट – राजेश यादव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY