तीन दशक से पिपराईच विधान सभा मे दो परिवारों का ही रहा दबदबा

0
191
          Image Courtesy -
                                                              Image Courtesy – Gorakhpur final Report

गोरखपुर ब्यूरों : गोरखपुर के पिपराईच विधान सभा मे पिछले तीन दशक से दो परिवारों का ही दबदबा रहा है|१९९१ में जीत का आगाज करने वाले जितेन्द्र उर्फ पप्पू जायसवाल जहां निर्दल ही जीत की हैट्रिक लगा चुके है तो वही जमुना निषाद का परिवार भी तीन बार जीत दर्ज कर चुका है|मेघालय के पूर्व राज्यपाल रहे मधुकर दीघे ने भी इस सीट से जीत की हैट्रिक लगा चुके है|

वर्ष १९९३,१९९६,२००२ में निर्दल चुनाव लड़कर जितेन्द्र ने जीत की हैट्रीक लगाई|तीन बार लागातार हार के बावजूद जमुना निषाद ने बर्ष २००२ में बसपा के टिकट पर लड़ते हुए निर्दल प्रत्याशी जितेन्द्र का विजय रथ को रोक दिया|

वर्ष २०११ में हुए उप-चुनाव और २०१२ के चुनाव में राजमति निषाद अपने प्रतिद्वंदी जितेन्द्र को सपा के बैनर तले पटकनी दी थी|इस बार फिर दोनो प्रतिद्वंदी आमने-सामने है|

बर्ष २०१७ विधान सभा चुनाव पिपराईच एक नजर

कुल वोटर-३,८६०२८
पुरूष-२,१४१५०
महिला-१,७१८४३

रिपोर्ट-जयप्रकाश यादव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here