पुलिस महा निदेशक का आदेश पुलिस के लिये संजीवनी

0
134

मैनपुरी ब्यूरो : पुलिस विभाग के नये सुल्तान द्वारा पुलिस कर्मियों को साप्ताहिक छुट्टी की सौगात दिये जाने से पुलिस कर्मियों में हर्ष की लहर है। उनका कहना है कि 24 घंटे की ड्यूटी करने से अक्सर पुलिस कर्मी अवसाद में आ जाते थे। अब उन्हें छुट्टी में मानसिक चिन्तन कर सकने का समय मिलेगा।

अंग्रेजी हुकूमत से लेकर योगी हुकूमत तक खाकी वर्दी धारी पुलिस कर्मी 24 घंटे की ड्यूटी के तलब गार हुआ करते थे। आपात स्थिति में तो उन्हें कई-कई दिन आपसी समझोते के तहत पुलिस कार्य निपटाने की जिम्मेदारी दी जाती थी। रात को मेला और दिन में तवेला या सम्मन तामीली, वांछित अपराधियों की धरपकड़, जलूस की निगरानी अथवा चैराहे की सुरक्षा, सडे गले शवों का निस्तारण जैसी ड्यूटियां उन्हें मानसिंह अवसाद की ओर धकेल देती थी। परिवारीजनों की बीमारी गांव के विवाद भी उन्हें आमतौर पर बीमार बना देते थे। कभी वह घटना कर डालते थे और कभी खुद अपनी जान गवा देते थे। योगी सरकार द्वारा पुलिस महकमें के सुल्तान की जिम्मेदारी तेज तर्रार आईपीएस अधिकारी सुलखान सिंह को मिलने के बाद सबसे पहले उन्होनंे पुलिस कर्मियों की दयनियता पर नजर डालते हुये उन्हें सप्ताह में एक दिन का अवकाश दिये जाने का आदेश जारी किया है।

सिपाहियों की हुई बल्ले-बल्ले
मैनपुरी। डीजीपी सुलखान सिंह के सप्ताहिक अवकाश का आदेश सुनते ही पुलिस कर्मियों की बांछे खिल गई। उनका कहना है कि हम भी अब राज्य कर्मियों की तरह सप्ताह में एक दिन अवकाश लेकर हारी बीमारी और परिवार की चिन्ता रख सकेंगे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY