कार्योें में सुधार के दिये निर्देश

0
57


मैनपुरी (ब्यूरो) कर-करेत्तर की बैठक से अनुपस्थित स्थानीय निकाय लिपिक का वेतन रोकने, अगे्रजी शराब पर लगे होलोग्राम की जांच करने, सीएल-2, एफ.एल-2 पर बिशेष निगरानी रखे जाने, डग्गेमार वाहनों का संचालन रोके जाने, प्रर्वतन कार्य बढाकर वसूली की स्थिति सुधारने, 2016-17 की अवशेष भटटों की रायल्टी शत-प्रतिशत जमा कराये जाने, 10 बडे बैनामों की जांच उप जिलाधिकारियों से कराये जाने, स्टाम्प एंव निबंधन, वाणिज्य कर, खनिकर्म की वसूली गत वर्ष की तुलना मे काफी खराब पाये जाने पर सम्बंधित को चेतावनी जारी कर वसूली की स्थिति सुधारने के निर्देश दिये है।

उक्त निर्देश जिलाधिकारी यशवन्त राव ने कर-करेत्तर की समीक्षा बैठक के दौरान दिये। उन्होने साफ लहजे मे कहा कि मण्डल मे जनपद की स्थिति दूसरे नम्बर पर रहनी है, इसके लिये सभी को सम्मिलित प्रयास करने होगें। कर-करेत्तर, राजस्व कार्यो, विकास कार्यो की प्रत्येक योजना मे स्थिति सुधारनी है, यदि किसी विभाग के कारण जनपद की स्थिति खराब हुई तो इसके लिए जिम्मेदार अधिकारी को खामियाजा भुगतना पडेगा। उन्होने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि व्यापार कर की वसूली गत बर्ष की अपेक्षा घटी है, विभाग द्वारा प्रवर्तन में कोई कार्य नहीं किया जा रहा है, विभाग के अधिकारियों द्वारा वसूली की प्रगति सुधारने मे रूचि नही ली जा रही है। स्टाम्प एवं निबन्धन में भी लक्ष्य के सापेक्ष वसूली की स्थिति ठीक न मिलने पर एआईजी स्टाम्प से कहा कि वह वसूली सुधारें, जिन विभागों द्वारा किराये पर दुकाने, भवन आदि दिये जाते हैं उनके किरायेनामे रजिस्टर्ड कराये जायें, जो विभाग किरायेनामा रजिस्टर्ड न कराये उसके विरूद्ध कार्यवाही की जाये।

श्री राव ने अलौह खनन में भी प्रगति खराब पाई, विभाग द्वारा अवैध खनन रोकने हेतु कोई प्रवर्तन का कार्य नहीं किया है। कई भट्टा स्वामियों ने अभी तक बर्ष 2016-17 की रायल्टी भी जमा नहीं की है। उन्होने कहा कि बर्ष 2017-18 मे कितने भट्टा स्वामियों ने प्रदूषण विभाग से एनओसी लिया है और कितने भट्टे संचालित हैं, की सूचना उपलब्ध कराये जाने के आदेश दिये। उन्होेने सबसे ज्यादा लाईन लास वाले क्षेत्र की सूचीं अवर अभियन्ता, लाईनमैन के नाम सहित उपलब्ध कराने के निर्देश अधिशासी अभियन्ता विद्युत को दिये। उन्होने असंतोष व्यक्त करते हुए कहा कि 21 अवर अभियंताओं द्वारा मात्र 1322 बिद्युत सयांेजन ही चैक किये है, यह स्थिति सुधारी जाये। 15 सितम्बर तक प्रत्येक फीडर के प्रत्येक घर के मीटर की चैकिग होनी है। जिलाधिकारी ने अधिशासी अधिकारियों से कहा कि वह वसूली की प्रगति सुधारें, निर्धारित लक्ष्य से कम वसूली करने वालों का वेतन किसी भी दशा में आहरित न हो। उन्होेने कृषि विपणन में मण्डी सदर की वसूली गत वर्ष की तुलना में काफी कम पाये जाने पर सचिव मण्डी को स्थिति सुधारने के निर्देश दिये। उन्होने आवकारी की समीक्षा करने पर पाया कि विभाग द्वारा अवैध शराब का संचालन रोकने के लिए 194 छापे मारकर 140 लोगों के विरूद्व कार्यवाही की गई। 6950 लीटर अवैध शराब वरामद कर 2405 कु.लहन नष्ट किया गया।

बैठक में अपर जिलाधिकारी न्यायिक अरूण कुमार, अधिशासी अभियन्ता विद्युत ए.के.पाण्डेय, एआईजी स्टाम्प आर.एन.राम , जिला आबकारी अधिकारी प्रमोद कुमार, ए.आर.टी.ओ.राजेश कुमार, अधिशासी अधिकारी सीमा तोमर, रागिनी वर्मा, प्रशासनिक अधिकारी जयदेव, सीआरए मुनीम सिंह,मनोरंजन कर निरीक्षक इन्द्रजीत आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – दीपक शर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here