जिलाधिकारी के आदेश की खुलेआम उड़ाई जा रही धज्जियाँ

0
32

सत्तर कटैया/सहरसा(ब्यूरो)- वर्ष 2001 में जिलाधिकारी द्वारा भेलवा पंचायत के 24 महादलित परिवार को दिए गए बासगीत पर्चा के बाद अभी तक जमीन पर दखल नहीं कराया गया है। जिसके कारण परचाधारी महादलित परिवार वर्षों से दखल रहने के लिए दर-दर की ठोकरे खाने को मजबूर हो रहे हैं। परचाधारी महादलित वीरेंद्र राम, सहदेव राम, भागवत राम, सुभाष राम, मदन राम, चंद्र सदा विजय राम, बनारसी राम सहित अन्य बताया कि 2001 से विभिन्न पदाधिकारियों के पास आवेदन देते-देते थक चुके हैं । उन्होंने बताया कि अंचलाधिकारी सुरेश कुमार के समय में आवेदन दिया था उस समय भी जमीन भी खाली थी ।

सीओ सुरेश कुमार राजस्व कर्मचारी व अमीन के साथ स्थल पर गए और देख कर वापस आ गया लेकिन दो दिन बाद ही उसे जमीन पर मकान बनाना शुरु हो गया है। महादलितों ने बताया कि सरकार ने 2014 में ऑपरेशन भूमि दखल दहानी के नाम पर बेदखल पर्चा धारियों को उन्हें आवंटित भूमि पर दखल कब्जा दिलाने के उद्देश्य एक महत्वाकांक्षी योजना चलाई थी ।

इस योजना के तहत बेदखली मामले में जमीन की मापी तथा आपसी सहमति से कब्जा दिलाना था । आपसी सहमति से काम नहीं बने की स्थिति में पुलिस प्रशासन के सहयोग से प्रचार धारियों को कब्जा दिलाने का प्रावधान किया गया है। लेकिन अभी तक 24% धारियों को दखल कब्जा नहीं दिलाया जा सका है।

रिपोर्ट- राजा कुमार

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY