सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के तत्वाधान में अन्त्योदय मेला और प्रदर्शनी का आयोजन

0
61

गाजीपुर(ब्यूरो)-  सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के तत्वाधान में पं0 दीनदयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी के उपलक्ष्य में क्षेत्रीय ग्राम्य विकास संस्थान के परिसर में तीन दिवसीय ब्लाक स्तरीय अन्त्योदय मेंला/प्रदर्शनी/व्याख्यान का शुभारम्भ मुख्य अतिथि मा0 सदर विधायक डॉ. संगीता बलवन्त ने दीप प्रज्ज्वलित कर पं0 दीनदयाल के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। मुख्य अतिथि ने अपने सम्बोधन में कहा कि पं. दीनदयाल जी का जीवन सादगी से भरा था। वह अच्छे साहित्यकार के साथ अच्छे पत्रकार भी थे। उनका विचार दर्शन ‘‘अन्त्योदय‘‘ सबसे अन्तिम पायदान पर स्थित व्यक्ति के विकास की बात करता है। हमारी सरकार भी उन्ही के वैचारिक दर्शन पर कार्य कर रही है। हम कल्याणकारी कार्यक्रमों को अन्तिम व्यक्ति तक पहुचानें के लिए प्रयत्नशील हेैं।

उन्होनें जनता से कहा कि मैं यहॉ की विधायक से पहले समाज सेविका हूॅ। मेरे पास कोई भी निःसंकोच अपनी समस्या लेकर आ सकता है। उनकी समस्या का तत्काल निदान किया जायेगा। बड़ी संख्या में उपस्थित बालिकाओं से कहा आप सब उनके व्यक्तित्व के बारे मे एकाग्रता से पढ़ें। इससे आपके माता-पिता के साथ पूरे देश को फख्र होगा। उन्होंने विभिन्न विभागों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का जिलाधिकारी एवं अन्य अधिकारियों के साथ अवलोकन किया। सभी विभागों से कहा आप लोग सरकार की योजनाओं को अन्तिम व्यक्ति तक पहुॅचाने की पूरी कोशिश करें।

जिलाधिकारी संजय कुमार ने पं0 दीनदयाल उपाध्याय के चित्र पर माल्यार्पण कर अपने सम्बोधन में कहा कि जो सभी की हित की बात करता है, कार्य करता है, उसकी सभी चर्चा करते हैं। आज हम लोग पं0 दीनदयाल जी को नमन कर रहे हैं, उनके समाज के प्रति अच्छे कार्यो के लिए। पं0 दीनदयाल चाहते थे व्यक्ति की गरिमा का ध्यान अवश्य रखा जाय। इसी सोच के अनुसार अच्छे अस्पताल, अच्छी सड़के, अच्छी शिक्षा एवं स्वच्छता आदि की सुविधा जनता को मिलनी चाहिए। उन्होने कहा कि मै समझता हूॅ कि यही एकात्म मानववाद है। गाजीपुर में बहुत क्षमता है। देश की रक्षा के लिए सबसे अधिक सैनिक गाजीपुर ने  दिया है। मैं गाजीपुर को नमन करता हूॅ। पं0 दीनदयाल जी के जन्म शताब्दी के अवसर पर शुभकामना देता हूॅ कि गाजीपुर के साथ ही उ0प्र0 एवं पूरा देश आगे बढ़े। मुख्य वक्ता डा0 व्यास मुनि राय ने कहा कि पं0 दीनदयाल उपाध्याय का विचार था कि देश का विकास मानवतावाद से ही हो सकता है। दूसरों का विकास करना, समाज का विकास करना भारत की संस्कृति रही है।

डा0 सुनील कुमार शाही ने कहा कि पं0 दीनदयाल का मत था कि व्यक्ति  का विकास किया जाय। गॉवो को आत्मनिर्भर बनाया जाय। इससे देश का बेहतर विकास होगा। अन्त्योदय मेंला/प्रदर्शनी में सभी विभागों की सहभागिता रही, जिसमें, बेसिक शिक्षा विभाग, श्रम विभाग, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग, वन विभाग, इफको, कौशल विकास मिशन उ0प्र0, सेवायोजन विभाग, समाज कल्याण, महिला एवं बाल विकास, कृषि विभाग, पशुपालन विभाग, मलेरिया/फाइलेरिया विभाग, स्वच्छ भारत मिशन, पंचायत राज विभाग, क्षय नियंत्रण, स्वास्थ्य विभाग आदि विभागो की प्रदर्शनी लगायी गयी थी। जिसमें सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा पं0 दीनदयाल उपाध्याय के जीवन पर चित्र प्रदर्शनी भी लगायी गयी थी। सांस्कृतिक कार्यक्रम नेहरू युवा केन्द्र के कलाकार राकेश कुमार एवं साथियों द्वारा प्रस्तुत किया गया। प्रज्ञा राय एवं अनन्या राय ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया।

इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी चन्द्र विजय सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी जनार्दन मणि त्रिपाठी, बेसिक शिक्षा अधिकारी श्रवण कुमार गुप्ता, जिला पंचायत राज अधिकारी लालजी दुबे, कार्यक्रम के नोडल अधिकारी उपजिलाधिकारी सदर विनय कुमार गुप्ता, कार्यक्रम प्रभारी खण्ड विकास अधिकारी सदर मृदुला, अपर जिला सूचना अधिकारी राकेश कुमार, प्रर्दशनी श्री अजय कूमार मौर्य प्रचार सहायक के तत्वाधान मे आयोजित की गयी। राज्य प्रशिक्षक कुमारी सत्यभामा, पारस नाथ, नागेन्द्र कुमार सिह एवं अन्य विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहें। इसके अतिरिक्त नेहरू युवा केन्द्र के पुरूष एवं महिला स्वयं सेवक, आगंनवाड़ी कार्यकत्री, आशा बहू आदि काफी संख्या में उपस्थित रहें। कार्यक्रम का संचालन नेहरू युवा केन्द्र के एसीटी सुभाष चन्द्र प्रसाद ने किया एवं धन्यवाद ज्ञापन नंेहरू युवा केन्द्र की उप निदेशक डॉ. कुमारी ज्योत्स्ना ने किया।

रिपोर्ट- डॉ. विजय कुमार यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY