हमारा कर्तब्य ?

0
337

जीवन में कोई भी चीज इतनी हानिकारक और खतरनाक नहीं जितना डांवाडोल स्थिति में रहना !

ये हमारा कर्तब्य हैं कि हम अपनी स्वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकायें !

जब हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आज़ादी मिले, हमारे अन्दर उसकी रक्षा करने की ताकत भी होनी चाहिए !

…….. .सुभाषचंद्र बोस

subhash chandra bose3

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

eight + 6 =