किसान की मेहनत से ही मिटती है हमारी भूख- डीएम

0
56
credit-patrika

मैनपुरी (ब्यूरो)- घर में बच्चो का पालन पोषण मां करती है,लेकिन समाज के लोगो का पालन-पोषण अन्नदाता किसान करता है, किसान की कड़ी मेहनत ,परिश्रम का ही  नतीजा है कि हमकोे 02 वक्त की रोटी सुकून से मिल रही है, किसान भाई अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिये जानवर अवश्य पाले ऐसी योजना बनाये कि 12 माह आमदनी हो, बागवानी को बढ़ावा दें, नई तकनीकी से खेती करें ताकि कम लागत में अच्छी आमदनी  हो जानवरो की सेहत का ख्याल रखे, उन्हें उचित आहार खिलायेें, समय-समय पर आवश्यक दवाये खिलायें ताकि वह तन्दुस्त रहे और ज्यादा दूध दें, रसायनिक खादों के प्रयोग से बचे यदि डीएपी,यूरिया का अंधाधुंध प्रयोग हुआ तो जमीन बांझ  हो जायेगी,भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ाने के लिये जैविक खाद का प्रयोग करें किसान दिवस में किसान समस्यायें लेकर न आयें बल्कि उत्तम खेती की बात करें,,कृषि वैज्ञानिकों से जानकारी कर इस दिवस का लाभ उठायें।

उक्त उ्गार जिलाधिकारी यशवन्त राव ने किसान दिवस के मौके पर विकास भवन के सभागार में किसानो से सीधे संवाद करते हुए व्यक्त किये। उन्होने किसानो से कहा कि आप जैसा खिला रहे है आम आदमी वहीं खा रहा है अधिक कीट नाशक का प्रयोग करने से सब्जियों में लम्बे समय तक उसका असर रहा है। जिसके खाने से आम व्यक्ति की सेहत खराब हो रही है। उन्होने किसानो का आह्वान  करते हुए कहा कि लहसुन ,अदरक,गोबर,गाय के पेशाब आदि से जैविक कीट नाशक तैयार करें और उसका प्रयोग करें  कम लागत में फसल अच्छी होगी और किसी की सेहत को नुकसान भी नहीं होगा। उन्होने किसानो को बताया कि बिहार के किसानो ने नई तकनीक ईजाद की है, 02 किलो दही का प्रयोग 25 किलो यूरिया का मुकाबला करेगा जो काफी फायदेमंद भी होगा। उन्होने कहा कि गाय,भैंस ,बकरी किसान अवश्य पाले और उसके गोबर की खाद तैयार कर खेती में प्रयोग करें, खरपतवार  ,फसल अवशेष ख्ेातो में न जलाये बल्कि नाफेड कम्पोस्ट के माध्यम से खाद तैयार करें, फसल अवशेष खेतों में जलाने से भूमि को नुकसान पहुंचता है साथ ही वायु प्रदूषण भी फैलता है।

श्री राव ने उपस्थित किसानो से कहा कि नई तकनीक एसआरआई,एसडब्लूआई अपनाये,कम बीज में धान,गेहूं की अच्छी पैदावार पाये। उन्होने किसानों की समस्या भी सुनी,कई किसानो ने बताया कि बैंक द्वारा उनसे फसल बीमे की राशि काट ली परन्तु फसल खराब होने पर मुआवजा नहीं दिया। इस पर उन्होने आश्वस्त किया कि जिस किसी किसान से बीमे की राशि काटी गयी है और उसका नुकसान हुआ है, बैंक उसे पैसा हर हालत में देगी सुनिश्चत होगा। एक कृषक  ने रामगंगा नहर का कुलाबा दबंगों द्वारा बन्द किये जाने की शिकायत को गभ्भीरता से लेते हुए अधिशासी अभियन्ता नहर को आदेशित किया कि वह तत्काल कुलाबा ख्ुालवायें और दोषी के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कराकर बतायें अन्य किसान ने नलकूप संख्या 104 का सामान चोरी होने ,चकरोड पर अनाधिकृत  कब्जा होने की शिकायत की। उन्होने पाया कि गत किसान दिवस में प्राप्त 09 शिकायतें मे से 08 का निस्तारण हो चुका है, 01 शिकायत खण्ड विकास अधिकारी सुल्तानगंज के यहंा लम्बित है जिसे तत्काल निस्तारित करने के आदेश दिये।

किसान दिवस में कृषि वैज्ञानिकों ने किसानो को जानकारी दी। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी  ने पशुओं की देखभाल के गुर बतायें। इस अवसर पर उप निदेशक कृषि यूबी सिंह गौतम,अग्रिण जिला प्रबन्धक डी.के.अग्रवाल,जिला कृषि अधिकारी पी.सी.विश्वकर्मा,अधिशासी अभियन्ता विद्युत आर.पी.पाण्डेय,जिला कृषि रक्षा अधिकारी जनार्दन कठेरिया, जिला उद्यान अधिकारी सुरेश कुमार सहित संबंधित अधिकारी ,कृषकगण आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट- दीपक शर्मा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY