हमारे अपने देश के लोगों ने ही अपने देश में जन्मी इस कला को महत्व देना बंद कर दिया है

0
222

поливак инструкция для собак

должностная инструкция специалиста мфц

जो बात मुझे सबसे ज्यादा दुःख पहुंचती है वह ये की विदेशियों के मन में हमारी कला के प्रति बहुत सम्मान और लगाव है और ये कला ही है जो वे भारतीय संस्कृति की इतनी सराहना करते हैं पर हमारे अपने देशवासियों ने ही उनके अपने देश में जन्मी इस कला को अहमियत देना ही बंद कर दिया है पर अंत में हम कलाकार हैं और हमें अपनी कला के प्रदर्शन के अलावां और कुछ नहीं आता

हमने इस बात को भी स्वीकार कर लिया है कि जीवन एक संघर्ष है जिसमे कभी तुम जीतते हो तो कभी हारते हो पर तुम कोशिश करना बद नहीं कर सकते और यही कारण है की हमने आज भी किसी तरह अपनी इस कला को जीवित रखा है और हम आगे भी ऐसा करते रहेंगे |

 

Via – Humans of India

NO COMMENTS