खंती कटने से पचासों बीघे बाग़ हुए जलमग्न

0
105

water logged
सफीपुर : शारदा नहर की दाराबनगर लिलौरी की कोठी से निकला गंधानाला खोलता नहर बिभाग की पोल दो दिनों शारदा नहर से पानी छोड़ा गया है नाले में फुल चल रहा पानी महदी खेड़ा के पास रूप नरायण यादव के बाग में खंती कटने से पचासो बिखे बाग जलमग्न होने से छेत्रिय बागवान चिंतित,वही बागवानों का कहना है कि इस समय बागों की धुलाई चल रही हैं, तो ऐसे में ट्रैक्टर ट्रॉली नही जा पा रही है जिससे फसल बर्बाद होने का खतरा है।

सरकार जहाँ नहर बिभाग की सफाई व सम्बन्धित देख रेख के लिए लाखों रुपये खर्च करती है वही दूसरी तरफ ठेकेदार की खाऊ कमाऊ की नीति के चलते नहर की जैसे तैसे सफाई तो कर दी जाती हैं लेकिन मेड़ो पर ध्यन तक नहीं जाता नतीजा जब नहर चालू करने पर किसानों की फसलों जल मग्न हो जाती हैं तो सम्बधित अधिकारी मौके पर पहुचता है तो उल्टे पाव किसान को ही फटकार लगाई जाती हैं। नहर बिभाग की निस्कियता के चलते हर साल पचासो बीघा जमीन बर्बाद हो जाती हैं।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here