ISIS के खिलाफ संयुक्त कार्यवाही के लिए पाकिस्तान अपनी सेना को नहीं भेजेगा

0
351

इस्लामाबाद- पूरी दुनिया में आतंक का पर्याय बन चुके दुनिया के सबसे शक्तिशाली और प्रबल आतंकी संगठन को उखाड़ फेंकने के लिए बनाई जा रही संयुक्त कार्यवाही के लिए पाकिस्तान ने अपनी सेना को भेजने से साफ़ मना कर दिया है I पाकिस्तान ने साफ़ कर दिया है कि वह किसी भी विदेशी मिशन पर अपनी सेना को नहीं भेजेगा I

गौरतलब है कि पूरी दुनिया में आतंक का पर्याय बन चुके आतंकी सगठन ISIS के खिलाफ हाल ही में यूनाईटेड नेशन में एक प्रस्ताव पारित किया गया है जिसके तहत एक गठबंधन सेना का निर्माण किया जाएगा और वह सेना ISIS को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए काम करेगी I इस संगठन में दुनिया के सभी वह देश जो यूनाइटेड नेशन का हिस्सा है वह अपनी-अपनी सेना भेजेंगे I

इस मामले पर पाकिस्तान ने अपनी सेना भेजने से साफ़ माना कर दिया है I आज इस्लामाबाद में पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट जनरल असीम सलीम बजवा ने मीडिया को बताया कि पाकिस्तान ने अफगानिस्तान सीमा पर पहले से ही तक़रीबन 1.82 लाख अपने जवान तैनात कर रखे है I ऐसे में बाजवा ने साफ़ किया कि पाकिस्तानी सेना किसी भी प्रकार के विदेशी मिशन का हिस्सा नहीं बन सकती है I

हालाँकि बाजवा ने मिडिल ईस्ट में अपने पैर पसार चुके आतंकी संगठन ISIS से निपटने का समर्थन किया है लेकिन वह इसका हिस्सा नहीं बनेंगे I आपको बता दें कि बाजवा को पाकिस्तानी सेना प्रमुख राहिल शरीफ का बेहद नजदीकी माना जाता है और वह हाल ही में अमेरिका के दौरे पर गए सेना प्रमुख राहिल शरीफ के साथ भी थे I

आपको बता दें कि हाल ही में पेरिस में हुए हमले के बाद वैश्विक स्तर पर ISIS को ख़त्म करने की बात की जा रही है और इसके लिए यूनाइटेड नेशन में एक प्रस्ताव भी पारित किया गया है I फिलहाल अमेरिका, रूस, फ़्रांस, और ब्रिटेन अपनी-अपनी सेनाओं को ISIS से लड़ने के लिए प्रयोग में ला रहे है I

ज्ञात हो कि साल की शुरुआत में भी जब सऊदी अरब के नेत्रत्त्व में ISIS के खिलाफ अभियान छेड़ने की बात हुई थी तब भी पकिस्तान ने साफ़ तौर पर इससे इनकार कर दिया था I अब जब पूरी दुनिया के देश ISIS के खात्मे के लिए तैयार तो ऐसे में पाकिस्तान अपनी धूर्तता से बाज नहीं आ रहा है I

 

ISIS का खात्मा नहीं चाहता है पाकिस्तान, नहीं भेजेगा अपनी सेना को ISIS के खिलाफ जंग में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here