2015-2016 में पाकिस्तान ने रोज किया है सीजफायर का उलंघन, जानें बीते 5 सालों में सेना ने कब और कितने आतंकी को मारा और हमारे कितने जवान हुए शहीद

0
939

नई दिल्ली- गृहमंत्रालय ने एक आरटीआई का जवाब देते हुए बताया है कि वर्ष 2015-2016 में रोज सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन किया है | पकिस्तान की तरफ से की जाने वाली इस सीजफायर उल्लंघन की घटना में भारतीय सेना और बीएसएफ ने बीते 2 सालों में कुल 23 जवानों को खोया है |

दैनिक भास्कर डॉट कॉम में छपी खबर के मुताबिक होम मिनिस्ट्री ने बताया है कि 2012 से 2016 के दौरान जम्मू-कश्मीर में कुल 1142 आतंकी घटनाएं हुई है, इसमें 226 जवान शहीद हुए है जबकि 90 सिविल नागरिक भी मारे गए है | हालाँकि इसी दौरान सेना और सिक्युरिटी फोर्सेज ने अलग-अलग ऑपरेशनों में कुल 507 आतंकियों को भी मार गिराया है | गृह मंत्रालय ने अपने जवाब में कहा, “पाकिस्तान ने 2016 में लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) पर 449 और 2015 में 405 बार सीजफायर वॉयलेशन किया है |”

जम्मू-कश्मीर में जाने कब हुई है कितनी आतंकी घटनायें –
गृहमंत्रालय के अनुसार, “वर्ष 2012 में जम्मू-कश्मीर में 220 और 2016 में 322 आतंकी घटनाएं हुईं। 2016 में 82 जवान शहीद हुए और 15 सिविलियन्स मारे गए।”

2012 में 220 आतंकी हमलों में 15 जवान शहीद हुए | एनकाउंटर में फोर्सेस ने 72 टेररिस्ट को मार गिराया |

वर्ष 2013 में जम्मू-कश्मीर घाटी में कुल 170 आतंकी हमले हुए और इन हमलों में सिक्युरिटी फोर्सेज ने अपने 53 जाबाजों को खो दिया था जबकि इन हमलों में कुल 15 सिविलियंस की मौत हो गयी थी | सिक्युरिटी फोर्सेज ने इस दौरान अलग-अलग ऑपरेशनों में कुल 67 आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया था |

वर्ष 2014 में हुई आतंकी घटनाओं में कुल 47 जवान शहीद हुए जबकि इन हमलों में 28 सिविलियन्स मारे गए | सिक्युरिटी फोर्सेस के साथ एनकाउंटर में 110 आतंकी मारे गए |

गृहमंत्रालय की तरफ से जारी रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2015 में 208 आतंकी घटनाएं हुईं और इन आतंकी घटनाओं में सेना और सिक्युरिटी फोर्सेज के कुल 39 जवान शहीद हो गए जबकि 17 सिविलियन्स भी मारे गए है | इस साल एनकाउंटर में सिक्युरिटी फोर्सेस ने 108 आतंकियों को मार गिराया|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here