करांची में लग रहे है पाकिस्तान विरोधी नारे, पाकिस्तान की खुल गयी पोल

0
85803

kashmir

वाशिंगटन- कश्मीर मामले पर भारत को मानवता की ह्त्या करने वाला बताने वाला पाकिस्तान अब अपनी ही चाल में और अपने ही घर में बुरी तरह से फंसता हुआ नजर आ रहा है और इस बार पाकिस्तान को वैश्विक स्तर पर बेईज्जती का सामना करना पड़ रहा है |

बता दें कि शनिवार को पाकिस्तान में विस्थापित मुसलामानों जो कि पाकिस्तान में बेहतर भविष्य की तलाश में गए थे के खिलाफ होने वाले अत्याचारों के विरुद्ध वाशिंगटन में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के घर व्हाईट हाउस के सामने एक मार्च निकाला गया | इस मार्च में मुज़ाहिर कहे जाने वाले इस समूह का पाकिस्तानी सेना समर्थक समूह से झड़प हो गई और झड़प इतनी बढ़ गयी कि अमेरिकी पुलिस को इस मामले में दखल देना पड़ा और दोनों ही समूहों को अलग करना पड़ा |

पाकिस्तान में हो रहा है मुज़हिरों पर अत्याचार –
दरअसल बता दें कि अमेरिका में हो रहे यह विरोध प्रदर्शन पाकिस्तान में हो रहे मुज़हिरों पर पाकिस्तानी सेना के अत्याचारों की कहानी बयान करता है | दरअसल आपको बता दें कि 1947 में आज़ादी के बाद जो मुसलमान बेहतर भविष्य की तलाश में पाकिस्तान गए थे उन्हें आज भी पाकिस्तान का मूल निवासी नहीं माना जता है और उन्हें पाकिस्तान में न केवल हेय द्रष्टि से देखा जाता है बल्कि पाकिस्तान में उनके लिए मुज़ाहिर शब्द का प्रयोग भी किया जाता है |

पाकिस्तानी सेना आये दिन इन मुज़हिरों पर अत्याचार करती है और उनकी हत्यायें करती है | पाकिस्तान में हो रहे मुज़हिरों के साथ अत्याचार के मामले में अल्ताफ हुसैन ने ओबामा प्रशासन से गुहार लगाई है कि वे पाकिस्तान एक दल भेजें और इस बात का पता लगायें कि पाकिस्तान किस तरह से मानवाधिकारों का उल्लंघन करते हुए मुज़हिरों और बलोचों पर अत्याचार करता है और पाकिस्तानी सेना उन्हें कैसे निर्ममता से मार डालती है |

संयुक्त राष्ट्र से भी दखल की कर रहे गुज़ारिश –
अमेरिका में हो रहे प्रदर्शनों में यह बात कही जा रही है कि जो पाकिस्तान इस बात की दुहाई देता है कि वह बेहद शांत देश है और उसके यहाँ सभी को बराबर के अधिकार प्राप्त है उस पाकिस्तान में बलोच और मुज़हिरों के साथ जानवरों से भी बदतर व्यवहार किया जाता है | इतना ही नहीं पाकिस्तान में उन्हें रॉ का एजेंट भी बताया जाता है |

बताया जा रहा है कि जिस वक्त नवाज़ शरीफ संयुक्त राष्ट्र संघ में कश्मीर मुद्दे पर बात कर रहे थे ठीक उसी समय अमेरिका में मुज़ाहिर कौमी मूवमेंट MQM के सदस्य पाकिस्तान में पांच पांच करोंड मुज़ाहिर और बलोच नागरिकों के साथ हो रहे अत्याचारों के खिलाफ आवाज़ बुलंद कर रहे थे |
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY