वैश्विक परमाणु नियमों को तोड़ने वाला पाकिस्तान किस आधार पर कर रहा भारत का विरोध : एएनआई

0
510

LONDON, ENGLAND - APRIL 30:  Prime Minister of Pakistan Muhammad Nawaz Sharif holds a meeting with British Prime Minister David Cameron in the White Room of Number 10 Downing Street on April 30, 2014 in London, England. During his visit to the UK, Mr Sharif is scheduled to meet with David Cameron, address an Investment Conference and meet members of the Pakistani Diaspora.  (Photo by Oli Scarff - WPA Pool /Getty Images)

दिल्ली- एनएसजी समूह की सदस्यता का विरोध करने वाले पाकिस्तान का न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने जबरदस्त पर्दाफास किया है | न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने खुलासा करते हुए लिखा है कि पाकिस्तान भारत का एनएसजी समूह की सदस्यता के लिए किस मुंह से विरोध कर रहा है जबकि पाकिस्तान अभी भी सभी वैश्विक नियम कायदों को ताख पर रखकर परमाणु सामग्री बेंच रहा है |

अमेरिकी सूत्रों के हवाले से न्यूज एजेंसी ने लिखा है, ‘पाकिस्तान परमाणु ऊर्जा आयोग संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों का उल्लंघन करते हुए उत्तर कोरिया को अभी भी प्रतिबंधित वस्तुओं की आपूर्ति कर रहा है. यही नहीं, उत्तर कोरिया को जो परमाणु सामग्री सप्लाई की जा रही है उसमें वह सामग्री भी शामिल है जो चीन की संस्थाओं ने पाकिस्तान एटॉमिक एनर्जी कमीशन PAEC को दी है |

बीते 3 सालो में नार्थ कोरिया के अधिकारियों ने 8 बार किया है पाकिस्तान का दौरा-
न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से दावा किया है कि तेहरान में उत्तर कोरिया के दो डिप्लोमैट्स किम योंग चोई और जैंग योंग सन ने 2012 से 2015 के बीच 8 बार पाकिस्तान का दौरा किया था | अमेरिकी अधिकारियों ने खुलासा किया है कि अपने दौरे पर उत्तर कोरिया के अधि‍कारियों ने परमाणु कार्यक्रम से जुड़े पाकिस्तानी अधि‍कारियों से भी मुलाकात की थी |

आपको यहाँ पर यह भी जान लेना अतिआवश्यक है पाकिस्तानी संसद में नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने बहुत ही घमंड से बयान दिया है कि एनएसजी की सदस्यता हासिल करने के भारत के प्रयास को पाकिस्तान ने नाकाम कर दिया |

विदेश सचिव एस जयशंकर सियोल के लिए रवाना –
उधर एस. जयशंकर दक्षिण कोरिया की राजधानी में भारत के सदस्यता हासिल करने की संभावना को मजबूत करने के लिए सदस्यों का समर्थन जुटाने का प्रयास करेंगे | ह सोमवार से शुरू हुई 48 देशों वाले समूह की आधिकारिक स्तर की वार्ता के दौरान हो रहे घटनाक्रमों पर करीब से नजर रखे हुए थे |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY