जम्मू-कश्मीर एनकाउंटर ख़त्म, दो कैप्टन समेत 5 जवान शहीद

0
347

श्रीनगर – जम्मू-कश्मीर के पम्पोर में 3 दिन से चल रही सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ सोमवार की शाम को समाप्त तो हो गयी लेकिन सेना ने अपने 2 अफसरों समेत कुल पांच जवानों को खो दिया है I हालाँकि सेना ने परिसर में छिपे तीनों आतंकियों को भी मार गिराया है I सेना की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि जम्मू एवं कश्मीर उद्यमिता विकास संस्थान (जेकेईडीआई) में छिपे तीन आतंकियों को मार गिराया गया है। मुठभेड़ में दो कैप्टन सहित पांच सुरक्षाकर्मी शहीद हुए हैं। एक नागरिक की भी मौत हुई है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, सुरक्षाकर्मियों ने पंपोर के जेकेईडीआई परिसर में तीन आतंककारियों को मार गिराया है। इनके शव मिल गए हैं।

सीआरपीएफ के काफिले पर किया था हमला –
आपको बता दें कि इन तीनों ही आतंकियों ने शनिवार शाम को सीआरपीएफ के काफिले पर हमला बोल दिया था। इस हमले में सीआरपीएफ कांस्टेबल भोला प्रसाद और चालक कांस्टेबल आर.के.राणा की मौत हो गई। बस पर हमले के बाद आतंकी जेकेईडीआई परिसर में घुस गए। सीआरपीएफ के जवानों ने आतंकियों का पीछा किया था लेकिन आतंकियों के पास बड़ी मात्रा में गोला बारूद होने की वजह से आतंकियों ने सीआरपीएफ के जवानों को उद्यमिता विकास संस्थान परिसर में घुसने से रोक दिया था I
जिसके बाद सीआरपीएफ के जवानों ने पूरे परिसर को चारो ओर से घेर लिया था और आतंकियों के खिलाफ कार्यवाही प्रारंभ कर दी गयी थी I सीआरपीएफ के सामने सबसे बड़ी समस्या परिसर के भीतर मौजूद तक़रीबन 120 या फिर उससे भी अधिक लोगों को जीवित बचा कर निकालना था I

इसे भी पढ़ें – 48 घंटे से पम्पोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, 2 अधिकारी सहित 7 जवान शहीद

सेना ने संभाली जिम्मेदारी –
सीआरपीएफ के काफिले पर हमला होने के कुछ देर बाद ही सेना ने आतंकियों के खिलाफ अपना ऑपरेशन चला दिया था I जिसके बाद एक-एक करके सेना ने पूरे इलाके से सभी लोगों को जीवित सुरक्षित बाहर निकाला और उसके बाद आतंकियों ख़त्म करने के लिए सेना ने अपना मिशन प्रारंभ कर दिया I बताया जा रहा है कि यह तीनों ही आतंकी लश्कर-ए-तैयबा से सम्बंधित थे I इस पूरे ऑपरेशन के दौरान सेना ने अपने दो बहादुर अफसरों को खो दिया है I

हरियाणा के जींद से ताल्लुक रखने वाले 10 पैरा रेजिमेंट के कैप्टन पवन कुमार और जम्मू क्षेत्र के ऊधमपुर शहर से संबंध रखने वाले 9 पैरा रेजिमेंट के कैप्टन तुषार महाजन ने अभियान की अगुआई की। लेकिन, बहुमंजिला इमारत में दाखिल

होने के दौरान दोनों अफसर आतंकियों की गोली का निशाना बनकर शहीद हो गए।

9 पैरा रेजिमेंट के लांस नायक ओम प्रकाश कार्रवाई के दौरान घायल हो गए। उन्होंने रविवार को अस्पताल में दम तोड़ दिया। इस मुठभेड़ में जान गंवाने वालों में गुंदिपोरा पुलवामा के निवासी अब्दुल गनी मीर भी शामिल हैं। वह इस संस्थान में माली थे। मुठभेड़ की चपेट में आने से उनकी मौत हो गई।

सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट समेत 15 सुरक्षाकर्मी मुठभेड़ में घायल हुए हैं। पंपोर में सोमवार को प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाकर्मियों के बीच भिड़ंत में 15 प्रदर्शनकारी घायल हो गए। प्रदर्शनकारियों ने कफ्र्यू जैसे प्रतिबंधों को तोड़ते हुए मुठभेड़ स्थल की तरफ जाने की कोशिश की थी।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here