परमार्थ घोटाला: प्रशासन की कार्रवाई के इंतजार में उपभोक्ता, कर्मचारियों में हड़कंप

0
122


मुरलीछपरा/बलिया : बैरिया के परमार्थ गैस गोदाम पर मंगलवार को घटतौली के शिकार उपभोक्ताओं द्वारा जमकर हंगामा करने व उच्च अधिकारियों से शिकायत करने के बाद अधिकारियों की छापेमारी और उसमें अनियमितता पाने के बाद एक तरफ जहां लोगों को अब उस पर कार्यवाही का इंतजार है तो दूसरी तरफ होम डिलीवरी करने वाले कर्मचारियों में भी अफरातफरी मच गई है जो कर्मचारी क्षेत्र में होम डिलीवरी का कार्य करते हैं गोदाम से जब गैस लेकर क्षेत्रों में चले और उन लोगों को पता चला के घटतौली के खिलाफ गोदाम पर छापा पड़ा है तो उनलोगों में भी अफरातफरी मच गई रास्ते में जहां पर ही थे सुरक्षित स्थानों पर अपना ठेला लगाकर इधर उधर खिसक लिए लोगों को माने तो क्षेत्र के विभिन्न गोदामों से गैस निकाल कर रखे गए गैस सिलेंडर को रात में सुरक्षित स्थानों को हटाया गया वैसे ही घटना पहली बार हुई है लेकिन जगजाहिर है की होम डिलीवरी के नाम पर काफी लूट होती है। जो इसका विरोध करता है उसको गैस देने से भी मना कर दिया जाता है |

आलम यह है कि नियमानुसार अगर 17 किलोमीटर की परिधि में गैस की आपूर्ति होम डिलीवरी की जाती है तो उसे एक पैसा भी अधिक चार्ज नहीं लेना है जबकि होम डिलीवरी गाड़ी पर ड्राइवर व ठेले वाले 50 से 60 रुपया तक की वसूली करते हैं जब की गैस पर्ची कटा के समय होम डिलीवरी का का चार्ज भी जुड़कर पर्ची काटा जाता है नियमानुसार अगर गैस सिलेंडर गोदाम से लेने पर वह शुल्क उपभोक्ता को वापस करना होता है। लेकिन ऐसा नहीं होता वही प्रति सिलेंडर दो से ढाई किलो कम भी उपलब्ध कराते हैं। गाड़ी पर अगर 50 सिलेंडर है तो उसमें 30 सिलेंडर घटतौली के होंगे और 20 सिलेंडर है मानक के अनुरूप होंगे गैस सिलेंडर का वितरण ऐसा माहौल बनाकर आनन-फानन किया जाता है जैसे गैस किसी को मिलेगा नहीं और घटतौली का सिलेंडर आसानी से वितरण किया जाता है कोई आपत्ति करता है तो कांटा भी घटतौली का रहता है उससे तोल देते हैं कोई कांटा पर से वजन करके आता है तो कांटे वाले से भी उलझ जाते हैं। कई बार उपभोक्ताओं ने गाड़ी को रोककर तहसीलदार तहसील प्रशासन को सूचित करते हैं किंतु मौके पर हो जाना मुनासिब नहीं समझते उल्टे गैस मालिक के समर्थक उक्त व्यक्ति से उलझ जाते हैं और वहां से उसे भगा देते हैं विरोध करने वाले के खिलाफ अनेक प्रकार की धमकी भी जाती है।

उपभोक्ता भी हैं जिम्मेदार
मुरलीछपरा। घटतौली के पीछे उपभोक्ता भी कम जिम्मेदार नहीं हैं कारण की उपभोक्ता मुखर होकर इसका विरोध नहीं करते कुछ लोग इसका विरोध करते हैं तो उक्त गाड़ी वाला उन्हें मानक वाला गैस सिलेंडर उपलब्ध कराता है और कहता है कि आप धीरे से लेकर चले जाएं वह अपना सही वजन वाला सिलेंडर लेकर धीरे से निकल जाते हैं कारण के जो प्रताड़ित हो रहा है उसको कोई मतलब नहीं तो बाकी वाला बेवजह क्यों टांग अड़ाए आलम भी अजब है अगर हम लोग सब्जी बाजार में जाते हैं कोई सब्जी 10 रुपया प्रतिकिलो बिकता है और जरा भी कम होने पर उससे उलझ जाते हैं और अपना हक लेकर चलते हैं किंतु प्रति गैस सिलेंडर दो से ढाई किलो कम ले रहे हैं इसका कोई विरोध नहीं करता वैसे जो भी हुआ अच्छा ही हुआ कम से कम इस कार्रवाई से गैस एजेंसी के संचालकों में भय होगा और वे घटतौली से बाज जाएंगे और उपभोक्ताओं को वाजिब हक मिलेगा।

रिपोर्ट : विद्याभूषण चौबे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here