पर्यावरण संरक्षण हेतु धरती पर वृक्षों की अति आवश्यकता है

0
78

चकलवंशी/उन्नाव (ब्यूरो)- पर्यावरण संरक्षण हेतु धरती पर वृक्षों की अति आवश्यकता है यह बात लगभग सभी लोगों को मालुम है। देश में जनसंख्या बृद्धि के चलते वनों का क्षेत्रफल सिमटता जा रहा है। हरे पेड़ों पर रातों दिन अधाधुन्ध कुल्हाड़ी और आरे चलाए जा रहे हैं जिससे पर्यावरण के लिए खतरा उत्पन्न हो गया है।

इसी को ध्यान में रखते हुए देश व प्रदेश की सरकारें वृक्षारोपण पर विशेष जोर लगाए हुए हैं वृक्षारोपण पर शासन से प्रतिवर्ष करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं अभी बीते साल वन विभाग ने लाखों पेड़ लगा कर एक कीर्तिमान स्थापित किया था अबकी साल भी काफी पेड़ लगाए जा रहे हैं जिनका मीडिया से लेकर बिभिन्न माध्यमों से खूब प्रचार प्रसार किया जा रहा है अब तो वृक्षारोपण एक प्रथा बन गई है अब कोई भी प्रोग्राम हो प्रशासनिक अधिकारियों से लेकर छोटे बड़े जन प्रतिनिधि वृक्षारोपण करते जरूर नजर आ जायेगें हर साल लाखों पेड़ लगाए जा रहे हैं लेकिन कितने पेड़ हरे है और कितने सूख चुके हैं किसी ने कभी यह जानने की कोशिश नहीं की है।

पिछले साल से लेकर अब तक वृक्षारोपण के तहत कितने पेड़ लगाए गए हैं और उसमें कितने हरे बचे हैं और कितने सूख चुके हैं किसी के पास जानकारी हो तो अवगत कराने का कष्ट करें वृक्षारोपण करने से ही वृक्ष तैयार नही हो जाते हैं वृक्ष को तैयार करने मे पुत्र को पालने जैसी देखरेख व मेहनत करनी पड़ती है वृक्षारोपण करके फोटो खिंचवा कर प्रचार प्रसार से कुछ भी हासिल होने वाला नहीं है।

रिपोर्ट- जितेन्द्र गौड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here